Logo
ब्रेकिंग
माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को

सौराष्ट्र को जीताने के बाद बोले उनादकट – बढ़ गई है भारतीय टीम में वापसी की बेताबी

राजकोट : सौराष्ट्र के कप्तान जयदेव उनादकट ने टीम को रणजी ट्राफी दिलाने के बाद कहा कि इस शानदार घरेलू सत्र के बाद भारतीय टीम में वापसी की उनकी बेताबी काफी बढ़ गयी है। साथ ही उन्होंने कहा कि वह उम्मीद करते हैं कि अब लोग सिर्फ उनके आईपीएल प्रदर्शन की ही बात नहीं करेंगे। टीम के मुख्य तेज गेंदबाज उनादकट ने इस में 67 विकेट हासिल किये लेकिन सबसे अहम बात यह है कि उन्होंने रणजी ट्राफी सेमीफाइनल और फाइनल में अपनी गेंदबाजी से जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

उनादकट ने सौराष्ट्र को पहली ट्राफी दिलाने के बाद कहा, ‘मेरे अंदर अब भी वापसी की वही भूख है। यह बेताबी अब और ज्यादा बढ़ गई है और यह मुझे पूरे सत्र में प्रोत्साहित करती रही। ईमानदारी से कहूं तो सत्र में शानदार खेलने के लिये शारीरिक रूप से काफी चुनौतियां रहीं। लगभग प्रत्येक मैच में तेज गेंदबाज के तौर पर इतने लंबे स्पैल फेंकना काफी चुनौतीपूर्ण रहा।’ उन्होंने कहा, ‘मैं इस दौर को आगे जारी रखना चाहता हूं। मैं यहीं इसे खत्म नहीं करना चाहता। हां, हमने ट्राफी जीत ली और मैं इस समय दुनिया का सबसे खुश कप्तान हूं।’

इस 28 वर्षीय खिलाड़ी ने 2018 में भारत के लिए बांग्लादेश के खिलाफ एक टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच था। वह 2010 में एकमात्र टेस्ट में खेले थे और 2013 में उन्होंने अपना अंतिम और कुल सातवां वनडे खेला था। कांफ्रेंस में ट्राफी के अलावा उनके साथ उनके दोस्त और सौराष्ट्र के साथी चेतेश्वर पुजारा बैठे थे जिन्होंने भी उनादकट के विचार का समर्थन किया। पुजारा ने कहा, ‘मैं सहमत हूं कि उनादकट ने पूरे सत्र में काफी अच्छी गेंदबाजी की। अगर किसी ने एक सत्र में 67 विकेट चटकाये हैं तो मुझे नहीं लगता कि ऐसा कोई है जो रणजी ट्राफी में इससे बेहतर प्रदर्शन कर सकता है। भारतीय टीम में चुने जाने के लिये रणजी ट्राफी के प्रदर्शन को भी काफी अहमियत दी जानी चाहिए।’

उन्होंने कहा, ‘मुझे हैरानी होगी अगर उसे भारतीय टीम में नहीं चुना जाएगा।’ उनादकट आईपीएल में राजस्थान रायल्स के मुख्य खिलाड़ी हैं, उन्हें नीलामी में दो बार काफी बड़ी राशि में खरीदा गया। उन्होंने कहा, ‘आईपीएल मेरे लिये काफी मायने रखता है। मैं कई खिलाड़ियों की तुलना में काफी कड़ी मेहनत कर रहा हूं। मेरे दिमाग में सिर्फ आईपीएल नहीं होता। हां, नीलामी होती है और लोग सिर्फ इसी के बारे में भी बात करते थे लेकिन मैं सचमुच रणजी ट्राफी जीतना चाहता था।’

nanhe kadam hide