Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

IPL 2021 के लिए सीरीज को बीच में छोड़कर क्यों आ रहे हैं साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी, हो गया खुलासा

नई दिल्ली। इस समय दक्षिण अफ्रीका और पाकिस्तान के बीच सीमित ओवरों की क्रिकेट खेली जा रही है। इस वजह से कई खिलाड़ी साउथ अफ्रीका की टीम के साथ हैं, लेकिन आइपीएल के शुरू होते ही वे पाकिस्तान के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज से हो जाएंगे। इसी को लेकर साउथ अफ्रीका की टीम के मुख्य कोच मार्क बाउचर ने बड़ा दावा किया है।

मार्क बाउचर का मानना है कि आइपीएल के खेलने से उन्हें भारत में इसी साल के आखिर में होने वाले टी 20 विश्व कप की तैयारियों में मदद मिलेगी और साथ ही अपने दूसरी श्रेणी के खिलाड़ियों को आजमाने का मौका मिलेगा। दक्षिण अफ्रीका के टॉप पांच खिलाड़ी क्विंटन डिकॉक, कैगिसो रबादा, लुंगी नगिदी, डेविड मिलर और एनरिक नोत्र्जे पाकिस्तान के खिलाफ केवल दो वनडे मैचों के लिए उपलब्ध रहेंगे

इसमें से एक वनडे मैच 2 अप्रैल को खेला जा चुका है। इसके बाद ये सभी खिलाड़ी नौ अप्रैल से शुरू होने वाले आइपीएल के लिए भारत पहुंच जाएंगे। बाउचर ने कहा, “इन खिलाड़ियों के सीरीज के मैचों में नहीं खेलने के फायदे और नुकसान हैं, लेकिन हम पहले से इसे जानते थे, क्योंकि बीसीसीआइ और सीएसए (क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका) के बीच आइपीएल के लिए खिलाड़ियों को छोड़ने का समझौता हो रखा है और कोविड-19 के कारण कार्यक्रम अनुकूल तैयार नहीं किया जा सका।”

उन्होंने आगे कहा है, “मुझे लगता है कि आइपीएल में भागीदारी का हमें विश्व कप में लाभ मिलेगा। इससे उन्हें अलग-अलग स्थलों में खेलने और विरोधी टीमों को समझने का अवसर मिलेगा। वे वहां छुट्टियां मनाने नहीं जा रहे हैं और इससे हमें अन्य खिलाड़ियों को आजमाने का मौका भी मिलेगा।” साउथ अफ्रीका के कोच का कहना है कि अगर शीर्ष खिलाड़ी जब नेशनल ड्यूटी पर नहीं होंगे तो बेंच पर बैठे खिलाड़ियों को मौका दिया जाएगा, जिससे कि वे अपने खेल में सुधार कर सकें और एक मजबूत टीम के साथ सामना करने में सक्षम हों।