Logo
ब्रेकिंग
माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को

न्यूजीलैंड से मिली हार के बाद विराट कोहली बोले, रिषभ पंत को बहुत मौके मिल चुके हैं

नई दिल्ली। न्यूजीलैंड में टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप होने के बाद विराट कोहली की कप्तानी और उनके लिए फैसलों पर सवाल उठाए जा रहे हैं। दो मैचों की सीरीज में कोहली बल्ले से पूरी तरह से नाकाम रहे साथ ही टीम चयन भी सटीक नहीं रहा। अनुभवी विकेटकीपर रिद्धिमान साहा की जगह रिषभ पंत को मौका देने पर भी आलोचकों ने सवाल उठाया।

भारत को दो मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मुकाबले में न्यूजीलैंड के खिलाफ 10 विकेट से हार मिली थी जबकि दूसरा मुकाबला 7 विकेट से गंवाया। न्यूजीलैंड ने 2-0 से सीरीज जीतकर भारत की क्लीन स्वीप किया। दूसरे मुकाबले के बाद कोहली ने मीडिया के सवालों का जवाब दिया और रिषभ पंत को मौका दिए जाने पर भी सफाई दी

कोहली ने कहा, “ऑस्ट्रेलिया सीरीज से लेकर घरेलू मुकाबलों तक हमने उनको बहुत सारे मौके दिए हैं। फिर इसके बाद कुछ वक्त के लिए वो बिल्कुल भी नहीं खेले इसके बाद उन्होंने वाकई अपने आप पर बहुत काम किया। आपको इस बात का पता होना चाहिए कि कब किसी और को मौका दिए जाने के लिए सही वक्त होता है। अगर आप लोगों को समय से पहले ही धकेलेंगे तो वो अपना आत्मविश्वास खो सकते हैं।”

“हम सबने मिलकर एक साथ काफी बुरा प्रदर्शन किया। मैं उनको अकेले ही जिम्मेदार ठहराने में विश्वास नहीं रखता। हम इस बात की जिम्मेदारी एक ग्रुप होने के नाते साथ उठाते हैं फिर चाहे वो बल्लेबाजी हो या फिर गेंदबाजी एक टीम हैं।”

“मुझे नहीं लगता है कोई भी अपनी जगह को टीम में हल्के में लेता है। हमने टीम में ऐसा ही माहौल तैयार किया है। लोगों को जिम्मेदारी निभाने और कठिन परिश्रम करने को लिए कहा गया है। इसका फायदा होता है या नहीं यह एक अलग बात है। इसके बाद आप टीम के खिलाड़ियों के साथ बात करते हैं।”

nanhe kadam hide