Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

पाकुड़ में पेयजल के लिए तरस रहा आदिम जनजाति, नहीं है किसी की नजर

पाकुड़: आजादी के 75 साल पूरे हो गए और देशवासियों ने जोश खरोश के साथ अमृत महोत्सव मनाया. लेकिन झारखंड राज्य के अंतिम छोर में बसे पाकुड़ जिला के गुट्टी पाड़ा गांव के लोगों को पेयजल कि समस्या से आजादी न तो शासन और न ही प्रशासन में बैठे लोग दिला पाए.
पाकुड़ जिला संवाददाता सुबल यदुवंशी कि इस खास रिपोर्ट को देखें

जहां पाकुड़ जिला के लिट्टीपाड़ा प्रखंड के गुटीपाड़ा में आज के इस डिजिटल दुनिया में लोग पानी के लिए कैसे दर-दर भटकने को बेबस है। यहां करीब 28आदिम जनजाति परिवार के लोग बूंद बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं और गांव से लगभग डेढ़ किलोमीटर दूर घने पहाड़ के नीचे झरना का गंदा पानी पीकर अपनी और अपने परिवार की प्यास बुझाते हैं।

पगटंडी के सहारे उबड़ खबड़ रास्ते से मुश्किलों के बीच किसी तरह घर पहुंचते है फिर दिनचर्या का कार्य करते हैं। यहां की लोगो कि माने तो चार पांच पीढ़ी बीत गया लेकिन आज तक शुद्ध पेय जल के लिए कोई पहल नहीं हुआ है। एक चापानल जरूर है लेकिन आदिम जनजाति के 28परिवार को शुद्ध पेय जल देने में फेल हैं।