Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

#Pakud साइमन मरांडी के अंतिम दर्शन को उमड़े लोग, मुख्यमंत्री सहित कई राजनेताओं ने दी श्रद्धांजलि

साइमन ने छात्र जीवन से राजनीति की शुरुआत की थी

पाकुड़ : झारखंड के पूर्व मंत्री साइमन मरांडी के अंतिम दर्शन के लिए उनके पुराने आवास लिट्टीपाड़ा के तालपहाड़ी डुमरीया पर समर्थक, रिश्‍तेदार, शुभचिंतक और राजनीतिक कार्यकर्ताओं का तांता लग गया। वही इस दौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी लिट्टीपाड़ा पहुंचे।

लिट्टीपाड़ा पहुंच उन्होंने पूर्व मंत्री के पार्थिव शरीर का अंतिम दर्शन व श्रद्धांजलि दिया। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि पूर्व मंत्री का निधन झारखंड के लिए बहुत बड़ा क्षति है।वही इस दौरान विधानसभा अध्‍यक्ष रविंद्र नाथ महतो ने भी हिरणपुर स्थित उनके आवास पर पहुंचकर उन्‍हें श्रद्धांजलि दी।

पूर्व मंत्री का शव बुधवार सुबह करीब पौने पांच बजे पाकुड़ जिले के हिरणपुर स्थित उनके आवास पर पहुंचा था। झामुमो के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री रहे साइमन मरांडी का 74 की उम्र में मंगलवार को निधन हो गया था। कोलकाता के निजी अस्पताल में इलाज के दौरान उन्होंने सोमवार देर रात अंतिम सांस ली। गौरतलब हो कि करीब एक महीने से तबीयत खराब होने की वजह से वो कोलकाता के अस्पताल में ही भर्ती थे।

साइमन ने छात्र जीवन से राजनीति की शुरुआत की थी।

साइमन मरांडी ने छात्र जीवन से राजनीति की शुरुआत की थी। साइमन ने पहली बार 1977 में बतौर निर्दलीय मरांग मुर्मू को 149 मतों से हराकर लिट्टीपाड़ा का नेतृत्व किया था। बाद में उन्होंने शिबू सोरेन के साथ मिलकर झामुमो बनाया। साइमन मरांडी ने पांच बार यहां से लगातार जीत हासिल की। 1989 में लोकसभा चले जाने के कारण साइमन ने यह सीट अपनी पत्नी सुशीला हांसदा को सौंप दी। वर्तमान में इस लिट्टीपाड़ा सीट से उनके पुत्र दिनेश विलियम मरांडी विधायक हैं।