Logo
ब्रेकिंग
DISNEY LAND MELA का रामगढ़ फुटबॉल मैदान में हुआ शुभारंभ विस्थापितों की 60% की भागीदारी सुनिश्चित नहीं हुई, तो होगा CCl का चक्का जाम Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा*

नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने की मंगल ग्रह पर चहलकदमी, ड्राइविंग की आवाज भेजी, आप भी सुनें

केप कनवेरल। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने मंगल ग्रह की सतह पर चहलकदमी शुरू कर दी है। इसने पहली बार मंगल ग्रह पर ड्राइविंग करने का आडियो भेजा है। अंतरिक्ष एजेंसी ने बुधवार को इसका एक 16 मिनट का ऑडियो जारी किया। इसमें मंगल की सतह पर रोवर के पहियों के चलने की स्‍पष्‍ट आवाज सुनाई दे रही है।

बता दें कि मंगल ग्रह पर भेजा गया सबसे बड़े, सबसे उन्नत रोवर पर्सिवियरेंस 18 फरवरी को लैंड किया था। 2.7 अरब डॉलर के इस मिशन का प्राथमिक मकसद इस बात का सबूत जुटाना है कि करीब तीन अरब साल पहले शायद मंगल ग्रह पर सूक्ष्म जीव पनपें हों, जब यह ग्रह ज्यादा गर्म, नम औऱ संभवत: जीवन के ज्यादा अनुकूल थी।

बता दें कि रोवर में दो माइक्रोफोन हैं। एक ने पहले से ही हवा और रॉक-ज़ैपिंग लेजर की आवाज़ रिकॉर्ड कर लिया है, दूसरे को लैंडिंग की आवाज रिकॉर्ड करना था। नासा के अनुसार, दूसरे माइक ने रोवर के मंगल पर पहुंचने की कोई आवाज़ रिकॉर्ड नहीं किया, लेकिन 4 मार्च को पहले टेस्ट ड्राईव को रिकॉर्ड करने में कामयाब रहा। ड्राइविंग ऑडियो में खरोंच की आवाज सुनाई दे रही है। अब इंजीनियर इस आवाज के बारे में पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

रोवर में वेदर स्टेशन, 19 कैमरे और दो माइक्रोफोन लगे हैं। इनकी मदद से नासा को स्पष्ट तस्वीरें मिलने की उम्मीद है। नासा इससे पहले मोबाइल साइंस व्हीकल मंगल पर भेज चुका है, लेकिन पर्सिवियरेंस से ज्यादा बड़ा और परिष्कृत है। इसे मंगल की चट्टानों के नमूने एकत्र करने के लिहाज से डिजाइन किया गया है। यह अपने साथ परियोजना से जुड़े कुछ खास उपकरण लेकर गया है। इनमें एक बेहद छोटा हेलीकॉप्टर भी शामिल है। इसे दूसरे ग्रह पर नियंत्रित उड़ान परीक्षण के लिए बनाया गया है।