Logo
ब्रेकिंग
DISNEY LAND MELA का रामगढ़ फुटबॉल मैदान में हुआ शुभारंभ विस्थापितों की 60% की भागीदारी सुनिश्चित नहीं हुई, तो होगा CCl का चक्का जाम Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा*

गौतम गंभीर ने कहा-टेस्ट चैंपियनशिप के बारे में मत सोचती रहे टीम इंडिया

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जा रही चार मैचों की टेस्ट सीरीज के बाद आइसीसी टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में पहुंचने वाली दूसरी टीम का फैसला होना है। न्यूजीलैंड की टीम पहले फाइनल में पहुंच चुकी है और इस टेस्ट सीरीज के बाद यह पता चलेगा कि फाइनल में उसका सामना किस टीम से होगा। भारत को फाइनल में पहुंचने के लिए दो मैचों के अंतर से सीरीज को जीतना होगा। पूर्व भारतीय ओपनर गौतम गंभीर ने हर एक मैच को अहम बताया है।

एएनआइ से बात करते हुए गंभीर ने कहा, हर एक टेस्ट मैच महत्वपूर्ण है, हमें वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के बारे में नहीं सोचते रहना चाहिए। टीम को इस वक्त अपने पिंक बॉल टेस्ट पर ध्यान लगाना चाहिए। मुझे तो लगता है कि यह एक काफी अच्छा टेस्ट मैच होने वाला है।

रोहित शर्मा ने रविवार को मीडिया से बात करते हुए कहा था, “ईमानदारी से कहूं तो जब हम मैच खेलते हैं तो ध्यान बाहर नहीं होता। हम चाहते हैं कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में जगह बनाए लेकिन वहां पहुंचने के लिए हमें काफी सारी चीजें करने की जरूरत है। हम चैंपियनशिप फाइनल में जगह बनाकर काफी खुश होंगे लेकिन इससे पहले छोटे छोटे कदम हैं जो फाइनल में पहुंचने से पहले हमें उठाने होंगे। अभी यह काफी दूर है इससे पहले की हम देखें क्या होगा हमारे पास दो टेस्ट मैच है।”

“आपको काम पर ध्यान देना होगा, बहुत ज्यादा आगे के बारे में सोचने की जरूरत नहीं। अगर आप वर्तमान में रहने की कोशिश करेंगे, मुझे नहीं लगता दबाव महसूस होगा। यह पांच दिन का खेल होता है तो ध्यान और दबाव दोनों ही हर दिन बदलता रहता है। वक्त से साथ उस पल में रहना जरूरी है और उस दिन क्या करना है इसके बारे में सोचना चाहिए। जब आप छोटी छोटी चीजों को सही करते हैं तो जो भी आप हमेशा एक टीम के तौर पर चाहते हैं हासिल कर पाते हैं।”