Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

गौतम गंभीर ने कहा-टेस्ट चैंपियनशिप के बारे में मत सोचती रहे टीम इंडिया

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जा रही चार मैचों की टेस्ट सीरीज के बाद आइसीसी टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में पहुंचने वाली दूसरी टीम का फैसला होना है। न्यूजीलैंड की टीम पहले फाइनल में पहुंच चुकी है और इस टेस्ट सीरीज के बाद यह पता चलेगा कि फाइनल में उसका सामना किस टीम से होगा। भारत को फाइनल में पहुंचने के लिए दो मैचों के अंतर से सीरीज को जीतना होगा। पूर्व भारतीय ओपनर गौतम गंभीर ने हर एक मैच को अहम बताया है।

एएनआइ से बात करते हुए गंभीर ने कहा, हर एक टेस्ट मैच महत्वपूर्ण है, हमें वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के बारे में नहीं सोचते रहना चाहिए। टीम को इस वक्त अपने पिंक बॉल टेस्ट पर ध्यान लगाना चाहिए। मुझे तो लगता है कि यह एक काफी अच्छा टेस्ट मैच होने वाला है।

रोहित शर्मा ने रविवार को मीडिया से बात करते हुए कहा था, “ईमानदारी से कहूं तो जब हम मैच खेलते हैं तो ध्यान बाहर नहीं होता। हम चाहते हैं कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में जगह बनाए लेकिन वहां पहुंचने के लिए हमें काफी सारी चीजें करने की जरूरत है। हम चैंपियनशिप फाइनल में जगह बनाकर काफी खुश होंगे लेकिन इससे पहले छोटे छोटे कदम हैं जो फाइनल में पहुंचने से पहले हमें उठाने होंगे। अभी यह काफी दूर है इससे पहले की हम देखें क्या होगा हमारे पास दो टेस्ट मैच है।”

“आपको काम पर ध्यान देना होगा, बहुत ज्यादा आगे के बारे में सोचने की जरूरत नहीं। अगर आप वर्तमान में रहने की कोशिश करेंगे, मुझे नहीं लगता दबाव महसूस होगा। यह पांच दिन का खेल होता है तो ध्यान और दबाव दोनों ही हर दिन बदलता रहता है। वक्त से साथ उस पल में रहना जरूरी है और उस दिन क्या करना है इसके बारे में सोचना चाहिए। जब आप छोटी छोटी चीजों को सही करते हैं तो जो भी आप हमेशा एक टीम के तौर पर चाहते हैं हासिल कर पाते हैं।”