Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

जब मद्रास में इंग्लैंड के खिलाफ शुरू हुआ वो टेस्ट मैच, जिसमें भारत को मिली पहली जीत

नई दिल्ली। First Test Win for India: चेन्नई तब चेन्नई नहीं, मद्रास हुआ करती थी। हालांकि, अखंड भारत, भारत हो चुका था, लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम को अभी भी पहली टेस्ट जीत की तलाश थी। यूं तो भारत ने 1932 में टेस्ट क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था, लेकिन 20 साल और 24 मैचों के बाद वो दिन आया जब भारत को पहली टेस्ट जीत नसीब हुई। भारत ने सबसे पहले उस टीम को हराया, जिसने क्रिकेट की शुरुआत की थी।

दरअसल, 6 फरवरी 1952 को भारत और इंग्लैंड की टीम के बीच मद्रास में वो टेस्ट मैच शुरू हुआ था, जिसमें अगले कुछ दिन बाद भारत को जीत मिली थी। 10 फरवरी 1952 को इस टेस्ट मैच का नतीजा निकला था, जो भारत की पहली टेस्ट जीत के रूप में दर्ज है। ये जीत भी कोई मामूली जीत नहीं थी, बल्कि इंग्लैंड की टीम को विजय हजारे की कप्तानी वाली भारतीय टीम ने पारी और 8 रन के अंतर से हराकर इतिहास रचा था।

6 फरवरी 1952 यानी आज ही के दिन शुरू हुए उस मुकाबले में इंग्लैंड की टीम के कप्तान डोनाल्ड कैर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी थी और मेहमान टीम ने 121.5 ओवर में पहली पारी में सभी विकेट खोकर 266 रन बनाए थे। इंग्लैंड के लिए जैक रॉबर्ट्सन ने 77, डिक स्पूनर ने 66, कप्तान डोनाल्ड कैर ने 40 और टॉम ग्रेवने 39 रन बनाए थे। भारत की तरफ से वीनू मांकड ने 8 विकेट अपने नाम किए थे।

पहली पारी में भारत ने 153 ओवरों में 457 रन बनाकर 9 विकेट खोकर पारी की घोषणा कर दी थी। इस पारी में भारत के लिए पॉली उमरीगर ने नाबाद 130 रन बनाए थे, जबकि 111 रन की पारी पंकज रॉय ने खेली थी। 61 रन दत्तू पाडकर ने बनाए थे। इंग्लैंड के खिलाफ पहली पारी के आधार पर भारत को 191 रन की बढ़त मिली थी, जिसके जवाब में इंग्लैंड की दूसरी पारी 75.5 ओवर में 183 रन पर ढेर हो गई। इस तरह मुकाबला भारत ने पारी और 8 रन के अंतर से जीत लिया।