Chatra एक राष्ट्र एक राशन कार्ड की सुविधा जिले में हुआ लागू

दूसरे प्रदेश में बीपीएल और अंत्योदय कार्ड का लाभ लेने वाले गरीब अब अपने स्थानीय डीलर से सकेंगे अनाज

yamaha

चतरा : जिले के हर गरीबों को अब डीलर के दुकान से ही राशन मिलेगा । राज्य सरकार के निर्णय के बाद चतरा जिला में पहली बार गरीब ग्रामीणों को उनके नजदीकी डीलर के दुकान से अनाज मिल सकेगा। दरअसल एक राष्ट्र एक राशन कार्ड नियम को लागू करते हुए जिला प्रशासन ने यह आदेश आपूर्ति विभाग के द्वारा सभी जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों को दिया है ।

इस योजना के तहत दूसरे प्रदेशों के रहने वाले गरीबों को भी उनके घर पर ही अनाज मिल सकेगा। जिला आपूर्ति पदाधिकारी विपिन कुमार दुबे ने बताया कि चतरा जिले के वैसे ग्रामीण जो गुजरात, पंजाब, जम्मू-कश्मीर सहित 21 प्रदेशों में कई वर्षों से रह रहे थे और अपना राशन कार्ड भी उसी प्रदेशों में बना लिया था,लेकिन कोरोना महामारी के दौरान अपने गृह जिला वापस लौटे हैं,उन्हें अनाज देने की नई कवायद राज्य सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन ने शुरू की है । इसके तहत दूसरे प्रदेशों से आए गरीब ग्रामीणों को उनके गांव के डीलर के द्वारा ही अनाज देने की व्यवस्था की गई है ।

जिला आपूर्ति पदाधिकारी विपिन कुमार दुबे ने बताया है कि सभी संबंधित डीलर को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि किसी भी गरीबों को अनाज के अनाज के कारण भुखमरी का शिकार नहीं होना पड़े इसलिए सरकार ने इस नियम को कठोरता से लागू किया है । उन्होंने बताया कि यदि डीलर अनाज देने में आनाकानी करता है तो इसकी सूचना जिला आपूर्ति पदाधिकारी को दें। उस पर तुरंत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि वैसे गरीब जिनका राशन कार्ड दूसरे प्रदेशों का बना हुआ है वह अपने गांव के डीलर के पास जाकर ई पोस मशीन में अंगूठा का निशान लगाने के बाद उन्हें अनाज दिया जा सकेगा। उन्होंने यह भी बताया कि देश में जितने भी राशन कार्ड बने हैं सभी का आधार कार्ड से टैगिंग की गई है। इसके लिए गांव के डीलर के पास जाकर उन्हें अपना अंगूठा का निशान ई पोस मशीन पर देना होगा ! संबंधित डीलर को उन्हें राशन उपलब्ध कराने का निर्देश दे दिया गया है । इस नियम की अनदेखी करने वाले डीलर पर गाज भी गिर सकती है । जिला आपूर्ति पदाधिकारी विपिन कुमार दुबे ने कहा है कि हर गरीबों को राशन उपलब्ध कराना सरकार की जिम्मेदारी है । इसी के तहत जिला प्रशासन ने इस नियम को सख्ती से लागू किया है। दरअसल दूसरे प्रदेशों के गरीब मजदूर अपने अपने गांव में रह रहे हैं, लेकिन उन्हें राशन कार्ड नहीं होने के कारण डीलरों के द्वारा अनाज नहीं देने की शिकायत मिली थी। हालांकि केंद्र सरकार के निर्देश के बाद एक राष्ट्र एक राशन कार्ड योजना के तहत सभी गरीबों को उनके गांव के डीलर के द्वारा ही अनाज देने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि जिला आपूर्ति विभाग द्वारा रात तकरीबन रात 9:00 बजे तक प्रत्येक दिन युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है ताकि गरीबों को राशन सही समय पर सही मात्रा में उपलब्ध हो सके।

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.