आजाद समाज पार्टी हो सकता है भीम आर्मी चीफ की पार्टी का नाम, आज किया जाएगा एलान

yamaha

नोएडा। भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर की पार्टी का नाम आजाद समाज पार्टी हो सकता है। हालांकि चंद्रशेखर के आने तक पार्टी के नाम की घोषणा नहीं कि जायगी। आजाद समाज पार्टी नाम के पोस्टर कार्यक्रम स्थल पर देखे गए हैं। मीडिया की नजर पड़ते ही लोग पोस्टर बैनर को छिपाने लगे।

बता दें कि चंद्रशेखर आज अपनी नई पार्टी का एलान करेंगे। बताया जा रहा है कि कार्यक्रम में शामिल होने के लिए 28 पूर्व विधायक और 6 पूर्व सांसद भी पहुंचे हैं।

भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने जबरल खोला कार्यक्रम स्थल का ताला

नोएडा पुलिस ने भीम आर्मी के प्रमुख चन्द्रशेखर आजाद को गेस्ट हाउस में कार्यक्रम करने की अनुमति नहीं दी है। इसके बावजूद भीम आर्मी के समर्थको ने कार्यक्रम स्थल का ताला तोड़कर गेस्ट हाउस के अंदर घुस गए हैं। डीसीपी सेंट्रल जोन हरीश चंदर का कहना है कि भीम आर्मी को कार्यक्रम की कोई अनुमति नहीं दी गई। बावजूद लोगों ने जबरन गेट का ताला खोलकर कार्यक्रम शुरू किया है। जो कि गैरकानूनी है इसलिए कार्यक्रम आयोजित करने वालों और इसमें शामिल होने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी।

इससे पहले नोएडा पुलिस ने कोरोना वायरस का हवाला देकर भीम आर्मी के कार्यक्रम पर रोक लगा दी।  बताया जा रहा है कि इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए देश के कई राज्यों से भीम आर्मी समर्थक आए हुए हैं। कार्यक्रम स्थगित होने के बाद चंद्रशेखर के समर्थकों में मायूसी हाथ लगी है।

नई पार्टी का मेनिफेस्टो और पार्टी स्लोगन घोषित करने का कार्यक्रम

रविवार को काशीराम जयंती पर गौतमबुध नगर में भीम आर्मी प्रमुख नई पार्टी की घोषणा करने पहुंच रहे है। वह आज नई पार्टी का मेनिफेस्टो और पार्टी स्लोगन घोषित करने वाले है। बता दें गौतमबुध नगर में कोरोना वायरस के चलते मनोरंजन के किसी भी कार्यक्रम के साथ-साथ सामूहिक गेदरिंग पर रोक लगा दी गई है।

कार्यक्रम स्थल पर लगा ताला

जिस जगह पर नई पार्टी का एलान किया जाना है पुलिस ने उस स्थल पर ताला जड़कर एक नोटिस लगा दिया था और नोटिस में लिखा गया है कि कोरोना वायरस के चलते आप कहीं भी पब्लिक मीटिंग या किसी तरीके का कोई कार्यक्रम नहीं कर सकते।

कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग उत्तर प्रदेश सहित विभिन्न जिलों से लोग पहुंचे है। लोगों का कहना है कि वे भीम आर्मी के समर्थन में यहां आए हैं।

raja moter

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.