Logo
ब्रेकिंग
आजसू पार्टी पर कांग्रेस ने लगाया मतदाताओं को भ्रमित और प्रभावित करने का आरोप । स्वीप के तहत मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करने हेतु विभिन्न कार्यक्रमों का हुआ आयोजन। कांग्रेसी नेता बजरंग महतो ने किया जनसंपर्क, दर्जनों ने थामा कांग्रेस का दामन । माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने रखी नई मांग, कहा- दंगे में गिरफ्तार हुए मुसलमानों को छोड़ा जाए

नई दिल्ली। सीएए व एनआरसी के विरोध में करीब तीन माह से शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने शुक्रवार देर रात प्रेस कॉन्फ्रेंस करके नई मांगे रख दीं। प्रदर्शनकारियों ने सीएए, एनआरसी व एनपीआर को वापस लेने की मांग की। इसके साथ ही यह भी मांग रख दी कि हाल ही में हुए दंगों में जिन मुस्लिम लोगों को गिरफ्तार किया है उन्हें रिहा किया जाए। प्रदर्शनकारियों ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि निर्दोष लोगों को भी दंगे का आरोपित बनाकर गिरफ्तार किया जा रहा है। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि दो हजार से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जबकि लोग दंगों में शामिल भी नहीं थे।

इधर, दिल्ली में हिंसा से पहले अलग-अलग दलों के नेताओं द्वारा दिए गए भड़काऊ भाषणों के खिलाफ हाई कोर्ट में दायर सभी याचिकाओं पर 20 मार्च को सुनवाई होगी। बुधवार को दायर की गई याचिका पर हाई कोर्ट ने नोटिस जारी कर 16 मार्च तक दिल्ली पुलिस और आप सरकार से जवाब मांगा है।

दीपक मदन ने दायर याचिका में कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, सलमान खुर्शीद और भाजपा के केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, स्थानीय नेता कपिल मिश्र के खिलाफ केस दर्ज कर एसआइटी से जांच करानी चाहिए। इसके अलावा याचिका में मांग की गई है कि जो हिंसा के लिए जिम्मेदार हैं, उनकी संपत्ति को कुर्क कर नुकसान की भरपाई करनी चाहिए।

इससे पहले माकपा नेता बृंदा करात ने भी याचिका दायर की थी और कई अन्य याचिकाएं भी हाई कोर्ट में दायर हुई। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मुख्य न्यायमूर्ति डीएन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ से कहा कि जांच पूरी करने के लिए कुछ समय दिया जाए। इस पर पीठ ने सभी मामलों की सुनवाई के लिए 20 मार्च की तिथि तय की है। हाई कोर्ट ने नोटिस जारी कर दिल्ली पुलिस और आप सरकार से 16 मार्च तक इस मामले में जवाब देने के लिए कहा है

nanhe kadam hide