सरकार ने कहा, दूसरे देशों से बेहतर स्थिति में भारत, किसी की भी नहीं हुई कोरोना वायरस से मौत

yamaha

नई दिल्‍ली। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने सोमवार को कहा कि सरकार कोरोना वायरस से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय वायरस से निपटने को लेकर सभी भाषाओं में राज्यों को दिशा-निर्देश जारी कर रहा है। उन्‍होंने बताया कि डब्‍ल्‍यूएचओ के ग्‍लोबल अलर्ट जारी करने से पहले ही हमने इस वायरस से निपटने को लेकर कवायद शुरू कर दी थी। यही कारण है कि हम बाकी देशों से आज बेहतर स्थिति में हैं। हालांकि, इसे लेकर हमें ओवर कॉन्फिडेंट होने के जरूरत नहीं है। हमें किसी भी केस की पूरी तरह से जांच करने की जरूरत है।

इस बीच केंद्र सरकार के विशेष सचिव (स्‍वास्‍थ्‍य) ने स्‍पष्‍ट किया है कि पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिस मरीज की मौत हुई उसको कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं हुआ था। उसकी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। अभी तक देश में कोरोना वायरस से किसी की भी मौत नहीं हुई है। बता दें कि देश में कोरोना वायरस के नए मामले सामने आने के बाद संक्रमित लोगों की कुल संख्या 42 पर पहुंच गई है। अधिकारियों की मानें तो दिल्ली, उत्तर प्रदेश और जम्मू-कश्मीर से एक-एक नया मामला सामने आया है।

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने बताया कि बीते 18 जनवरी को हमने सात हवाई अड्डों पर यूनिवर्सल स्क्रीनिंग शुरू की थी जो अब 30 हवाई अड्डों पर जारी है। दुनिया के दूसरे देशों से आने वाले सभी यात्रियों स्‍क्रीनिंग की जा रही है। अब तक, कुल 8,74,708 यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। देश भर में कोरोना वायरस की टेस्टिंग के लिए 46 लैब काम कर रही हैं। इसके अलावा 56 लैब्स को हमने कलेक्शन सेंटर के तौर पर रखा है। आज हमारे सामने कोरोना वायरस के चार पॉजिटिव केस आए हैं। इनमें उत्‍तर प्रदेश, दिल्ली, केरल और जम्मू में एक-एक केस सामने आए हैं।

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने सोमवार को बताया कि स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की ओर से राज्‍यों को भेजी गई एडवाइजरी में प्रयोगशालाओं को स्‍थापित करने और मरीजों के उपचार के लिए मेनपॉवर बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। हमने ईरान में फंसे भारतीयों के लिए अपने वैज्ञानिक और प्रयोगशालाओं को इस्‍लामिक गणराज्‍य भेज दिया है। जब हमें कस्टम क्लीयरेंस मिल जाएगा तब ये लोग काम करना शुरू कर देंगे। अभी हम वहां से नमूने ला रहे हैं। नमूने की रिपोर्ट निगेटिव आने पर हम भारतीयों को वापस लाएंगे।

हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने बताया कि सरकार फोन पर भी लोगों को लगातार जागरूक कर रही है। मामले बढ़ने की स्थिति में हमनें दिल्ली सरकार से आइसोलेशन वार्डों, डॉक्टरों की उपलब्धता एवं अन्य सावधानियों को लेकर बात की है। दिल्ली में संक्रमण से जुड़े मसलों पर हमने सीएम केजरीवाल से बात की है। कोरोना वायरस से संक्रमित देशों की संख्या बढ़ रही है। ऐसे में हमको व्यापक तैयारियों की आवश्यकता है। किसी को भी कोरोना वायरस के खतरे को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है।

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.