Logo
ब्रेकिंग
आजसू पार्टी पर कांग्रेस ने लगाया मतदाताओं को भ्रमित और प्रभावित करने का आरोप । स्वीप के तहत मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करने हेतु विभिन्न कार्यक्रमों का हुआ आयोजन। कांग्रेसी नेता बजरंग महतो ने किया जनसंपर्क, दर्जनों ने थामा कांग्रेस का दामन । माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू

छतरपुर में मोबाइल विस्फोट से 10 साल की छात्रा गंभीर रूप से घायल, इलाज के लिए ग्वालियर रेफर

छतरपुर: अगर आप मोबाईल स्तेमाल करते हैं तो यह खबर आपके लिए चौंकाने वाली साबित हो सकती है और आप इसका शिकार भी हो सकते हैं। मामला छतरपुर जिले के राजनगर तहसील के बसारी गांव का है जहां कक्षा 5वीं में पढ़ने वाली 10 साल की नाबालिग किरण पटेल मोबाईल फटने से घायल हो गई जिसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल लाया गया है। जहां उसका प्राईमरी इलाज के बाद ग्वालियर मेडिकल के लिए रेफर कर दिया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक किरण को मोबाइल में गेम का बहुत शौक है और वह मोबाइल चार्ज के लिए लगाए हुए थी। चार्ज होने पर जैसे ही वह पर मोबाइल उठाया और तभी अचानक विस्फोट हो गया जिससे उसके कान और दाहिनी आंख में गंभीर चोटें आईं है। खून से लथपथ किरण को परिजन जिला अस्पताल लेकर आये है। जहां आई सर्जन (आंखों के डॉक्टर) ने उसका चेकअप और प्राइमरी ट्रीटमेंट किया गया। यहां इलाज संभव नहीं था जिससे उसे ग्वालियर मेडिकल रैफर किया गया है।

घायल बच्ची के पिता लखन लाल पटेल की मानें तो किसी को इस बात का अंदाजा नहीं था कि मोबाईल फट जाएगा। किसी को इस बात का अंदाजा नहीं था कि कंपनी का मोबाइल इस तरह से फट जाएगा और जान के लाले पड़ जाएंगे। डॉक्टर जीएल अहिरवार का कहना है कि ब्लास्ट इतना तेज था कि उसकी आंख बचना लगभग मुश्किल सा है। आंख से लगातार खून बह रहा है। प्राथमिक उपचार के बाद उसे ग्वालियर रेफर कर दिया गया।

मामला चाहे जो भी हो पर इतना तो तय है कि यह घटना हमें और हमारे बच्चों को एक सीख देती है। मोबाइल देना बच्चों के जीवन के लिए घातक हो गया। अतः हमें आप सभी को इस घटना से सीख लेनी चाहिए जिससे आगामी समय में इस तरह की घटनाओं पर विराम लग सके।

nanhe kadam hide