फायर एरिया में बदलाव के बाद रंगदारी और रंगदारों का विकास, प्रति टन 650 रुपये डिमांड से व्यवसायी पसोपेश में

yamaha

धनबाद, धनसार। फायर एरिया यानी झरिया क्षेत्र में विधानसभा का चुनाव बदलाव और विकास के नाम पर हुआ था। जनता को यह मुद्दा भा गया। पांच दशक बाद झरिया विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत हुई। कांग्रेस प्रत्याशी पूर्णिमा नीरज सिंह विधायक बनीं। इस बदलाव के बाद झरिया विधानसभा क्षेत्र में विकास के बजाय रंगदारी की ज्यादा चर्चा है। इससे कोयला व्यवसायी पसोपेश में हैं। विधि-व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस हांफ रही है।

कोयले की कमाई में चाहिए हिस्सेदारी 

झरिया कोयलांचल में कोयला व्यवसायियों से रंगदारी आम बात है। कतिपय जनप्रतिनिधि और बाहुबली प्रति टन के हिसाब से रंगदारी वसूलते हैं। चर्चा है कि झरिया विधानसभा क्षेत्र में पहले विधायक संजीव सिंह के आदमी कोयला व्यवसायियों से प्रतिटन के हिसाब से वसूली करते थे। अब विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह के आदमी हिस्सेदारी के लिए खड़े हो गए हैं। नए-नए लोग प्रति टन 650 रुपये रंगदारी मांग रहे हैं। साथ ही यह भी फरमान जारी कर दिया गया है कि हमें नहीं मिली तो किसी को लेने भी नहीं देंगे। अब कोयला व्यवसायी पसोपेश में हैं। वे समझ नहीं पा रहे हैं कि करें तो क्या करें ? किस-किस को रंगदारी दें। इस कारण ऐना परियोजना में कोयले का उठाव नहीं हो पा रहा है। 12 मार्च तक यहां 25 सौ टन आवंटित कोयला का उठाव होना है। उठाव नहीं होने पर डीओ की अवधि समाप्त हो जाएगी। इससे कोयला व्यवसायियों के साथ कोयला कंपनी बीसीसीएल परेशान है।

सुबह से कोयला लोडिंग की कोशिश

एना परियोजना से  कोयला लोडिंग करने के लिए गुरुवार को पांच ट्रक भालगोरा कांटा घर पहुंचे। वजन के बाद ट्रक पर कोयले की लोडिंग कराई जाएगी। झरिया पुलिस की ओर से इलाके में तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। झरिया थाना प्रभारी पीके सिंह लोडिंग पॉइंट पर पुलिस के साथ कड़ी नजर रखे हुए हैं। डीओ धारकों से रंगदारी लेने को लेकर संजीव सिंह और पूर्णिमा नीरज सिंह के आदमी आमने-सामने हैं। वहीं भालगोरा कांटा घर पर बोर्रागढ ओपी  प्रभारी सुशील कुमार सिंह पुलिस के साथ हैं। इसके अलावा क्षेत्र के सिंह नगर, गोपालीचक मोड़, शिमला बहाल आदि क्षेत्रों में पुलिस और सीआईएसएफ के जवान जगह-जगह तैनात हैं। 12 मार्च तक यहां 25 सौ टन आवंटित कोयला का उठाव होना है। गुरुवार को 14 ट्रक आने की बात कही जा रही है। एक ट्रक में 25 टन कोयला लोड होना है।

खूनी टकराव के मद्देनजर पहले लोडिंग पर लगी रोक 

ऐना लोडिंग प्वाइंट में रंगदारी को लेकर दो गुटों में खूनी संघर्ष की आशंका है। टकराव कि स्थिति को देखते हुए 27 फरवरी को होनेवाली ट्रक लोडिंग पर जिला प्रशासन ने रोक लगा दी थी। निरीक्षण में झरिया इंस्पेक्टर पीके सिंह, सीआइएसएफ इंस्पेक्टर सुशांत कनहोर, ऐना पीओ एमके मिश्रा, प्रबंधक दिलीप कुमार आदि पुलिस थे।

नहीं हो सकी सीसीटीवी की व्यवस्था

पुलिस के आदेश के बावजूद ऐना प्रबंधन ने लोडिंग प्वाइंट पर सीसीटीवी कैमरा की व्यवस्था नहीं की है। लोडिंग व्यवस्था नहीं हो पा रही है।

डीओ धारकों में संशय की स्थिति

जिला प्रशासन व प्रबंधन ने यहां लोडिंग कार्य शुरू कराने के लिए तैयारी तो कर ली है। पर यहां उत्तम किस्म का कोयला भी नहीं दिख रहा है। वहीं व्यवसायियों में अभी भी दहशत का माहौल है। लोडिंग में व्यवसायी व ट्रांसपोर्टर लोड के लिए ट्रक भेजेंगे कि नहीं इस पर भी संशय बना हुआ है।की तैयारी है। हर स्थिति से निबटने के लिए पुलिस तैयार है। जो भी खलल डालने की कोशिश करेगा उसे खदेड़ दिया जाएगा।

– पीके सिंह, इंस्पेक्टर, झरिया थाना।

लोडिंग कार्य शुरू कराने के लिए पुलिस का निर्देश मिलते ही एक सप्ताह तक का अलॉटमेंट बना दिया गया है। अगर शांतिपूर्ण कोयला का उठाव हुआ तो आगे भी अलॉटमेंट बनेगा।

– एमके मिश्रा, पीओ, ऐना कोलियरी 

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.