Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

क्यों भड़का स्पीकर बिड़ला का गुस्सा? दे डाली चेतावनी- निलंबित कर दूंगा

नई दिल्लीः लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सोमवार को सदन में हुई धक्कामुक्की के बाद आज सख्त रूख अपनाते हुए कहा कि सत्तापक्ष हो या विपक्ष कोई भी सदस्य इधर से उधर किसी की सीट पर नहीं जायेगा और इसका उल्लंघन करने वाले को पूरे सत्र के लिए निलंबित कर दिया जाएगा।

सदन की कार्यवाही ग्यारह बजे शुरू होते ही दिल्ली में हिंसा पर चर्चा कराने की मांग करते हुए विपक्षी सदस्य हंगामा करने लगे तभी बिरला ने कहा कि सोमवार की घटना के बाद सर्वदलीय बैठक में यह निर्णय लिया गया कि सत्ता पक्ष या विपक्ष की ओर से कोई भी सदस्य इधर से उधर नहीं जाएंगे और अब जो भी ऐसा करेगा उसे पूरे सत्र के लिए निलंबित कर दिया जाएगा।

सोमवार को प्रत्यक्ष कर विवाद से विश्वास विधेयक, 2020 पर चर्चा की शुरुआत के दौरान ही सदस्यों के बीच तीखी नोंकझोंक और कांग्रेस तथा भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों में हाथापाई हाथापाई हो गई थी। बिरला ने कहा था ‘‘हम सबका प्रयास होना चाहिये कि संसद की मार्यादा बनाए रखें। वरिष्ठ सदस्य हस्तक्षेप कर सदन की गरिमा बनाए रखें। सदन में जो हुआ उससे मैं व्यक्तिगत रूप से बहुत दु:खी हूँ। मैं ऐसी परिस्थिति में सदन नहीं संचालित करना चाहता। सब मिलकर विचार कर लें, एक मर्यादा बन जाए।”

बिरला ने सदस्यों को सदन में प्लेकार्ड और बैनर लेकर नहीं आने की हिदायत दी। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि आप लोग तय कर लें कि सदन अब प्लेकार्ड से चलेगा और अपने अपने दल की ओर से घोषणा कर दें कि सदन को प्लेकार्ड से चलाया जाएगा। उसके बाद हंगामा बढ गया। उल्लेखनीय है कि दिल्ली में हिंसा पर सदन में चर्चा की मांग कर रहे विपक्ष के हंगामे के कारण दो दिन से संसद में कोई कामकाज नहीं हुआ है।