Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

दिल्ली हिंसा: 11 दिन पहले हुई थी शादी…सुबह काम पर गया, रात को शव पहुंचा घर

नई दिल्लीः दिल्ली में धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हो रही है और साथ ही हिंसा के जख्म भी दिखने लग हैं। बीते दो-तीन दिनों में दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों की आपबीती झकझोर देने वाली थी। कोई घर से काम पर गया लेकिन जिंदा नहीं लौटा तो कोई अपने भूखे बच्चे के लिए दूध लेने गया और भीड़ का शिकार हो गया। मारे गए लोग भले ही किसी भी धर्म या मजहब के हों लेकिन सभी के परिजनों के मन में एक ही सवाल था आखिर उनका क्या कसूर था। कहीं पिता सिसकियां ले रहा है तो कहीं बच्चे पापा को तलाश रहे हैं। और किसी की तो अभी 11 दिन पहले ही शादी हुई थी और उसका सुहाग उजड़ गया।

  • बुलंदशहर के सासनी गांव का रहने वाला अशफाक दिल्ली में इलेक्ट्रिशियन का काम करता था। उसकी 11 दिन पहले ही शादी हुई थी। हिंसा वाले दिन अशफाक बिजली ठीक करने घर से निकला था लेकिन वह हिंसक भीड़ का शिकार हो गया। दंगाइयों ने अशफाक को पांच गोली मारी और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। अशफाक के चार भाई और चार बहनें हैं। शवगृह पर अशफाक की डेड बॉडी लेने आए उसके चाचा ने बताया कि वह पढ़ाई करना चाहता था लेकिन घर की जरूरतों को देखते हुए वह दिल्ली में नौकरी करने आ गया। मालूम नहीं था कि दिल्ली में उको जिंदगी नहीं मौत बुला रही है।
  •  शिव विहार के बाबू नगर में रहने वाला 26 साल का राहुल सोलंकी सोमवार शाम घर से बाहर दूध खरीदने गया था। रास्ते में भीड़ ने उसे घेर लिया। परिजनों ने कहा कि उसकी मौत गोली लगने की वजह से हुई है। राहुल परिवार में सबसे बड़ा था और एक निजी कंपनी में काम करता था। उसकी दो बहनें और एक भाई है। शव लेने के लिए उसकी बहनें और परिवार के अन्य सदस्य गुरु तेग बहादुर अस्पताल के शव गृह के बाहर बैठे थे।
  • बिहार के गया से काम की तलाश में दिल्ली आए दीपक मंगलवार को जाफराबाद में कपड़े खरीदने गया था, जहां भीड़ ने उसपर हमला कर दिया। दीपक को भी गोली मारी गई। अपने परिवार में वह अकेला कमाने वाला था। वह दिल्ली में मजदूरी करता था।  परिवार में पत्नी के अलावा एक लड़का और दो लड़कियां हैं। हिंसा में मारे गए इन में किसी के खिलाफ भी कोई पुराना मामला दर्ज नहीं था। हिंसक भीड़ ने बिना किसी कारण के मासूम लोगों की जान ले ली।