Logo
ब्रेकिंग
Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l

Shaheen Bagh: कालिंदी कुंज से फरीदाबाद-जैतपुर जाने वाला रास्ता थोड़ी देर के लिए खोला, फिर किया बंद

फरीदाबाद जाने के लिए लोगों को डीएनडी के जरिए आश्रम होते हुए कई किलोमीटर घूमकर जाना पड़ रहा था।

नई दिल्लीः दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ धरने की वजह से बंद नोएडा से फरीदाबाद और जैतपुर जाने का रास्ता आखिर दो महीने बाद शुक्रवार को कुछ समय के लिए खोला गया हालांकि बाद में इसे फिर से बंद कर दिया गया। उत्तर प्रदेश पुलिस ने कालिंदी कुंज से फरीदाबाद और जैतपुर की तरफ जाने वाले रास्ते को थोड़ी देर के लिए खोल दिया था लेकिन फिर रास्ते को बंद कर दिया गया। दरअसल शुक्रवार सुबह कालिंदी कुंज से फरीदाबाद जाने वाली सड़क पर बस खराब हो गई थी। इस वजह से वहां जाम लग गया था। जाम खुलवाने के लिए कुछ देर के लिए रास्ते को खोला गया।

पुलिस ने खुद बैरिकेट्स हटाए। इसके बाद फिर रास्ते को बंद कर दिया गया। हालांकि अभी वहां से टू-व्हीलर्स को जाने की इजाजत है। इसके साथ ही शाहीन बाग की ओर से जाने वाली सड़क भी बंद है। प्रदर्शनकारियों ने अपनी तरफ से कोई ढील नहीं दी है। पुलिस ने ओखला पक्षी विहार के पास जो बैरेकेडिंग की थी, सिर्फ उसे हटाई गई है। वहीं टू-व्हीलर्स को जरूर थोड़ी राहत जरूर मिली है। लोगों को अभी तक मदनपुर खादर के रास्ते से होकर जाना पड़ता था, जिससे उनको मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा था।

फरीदाबाद जाने के लिए लोगों को डीएनडी के जरिए आश्रम होते हुए कई किलोमीटर घूमकर जाना पड़ रहा था। लोगों का कहना था कि उनको 20 मिनट का सफर ढाई घंटे में तय करना पड़ रहा था। लोगों का कहना है कि नोएडा पुलिस को यह रास्ता बंद करने की जरूरत ही नहीं थी क्योंकि प्रदर्शनकारी वहां से काफी दूर बैठे हुए हैं। प्रदर्शनकारियों ने 15 दिसंबर से शाहीन बाग को बंद किया हुआ है। इस रास्ते पर शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी अभी भी जमा हैं। सुप्रीम कोर्ट की तरफ से नियुक्त वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों को समझाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने।