Logo
ब्रेकिंग
स्वीप के तहत मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करने हेतु विभिन्न कार्यक्रमों का हुआ आयोजन। कांग्रेसी नेता बजरंग महतो ने किया जनसंपर्क, दर्जनों ने थामा कांग्रेस का दामन । माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी

राहुल गांधी को अप्रैल में फिर बनाया जा सकता है कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल के इस्तीफे के बाद कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) ने पिछले साल अगस्त में सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त किया था।

नई दिल्ली: राहुल गांधी की एक बार फिर से कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में वापसी हो सकती है। नई दिल्ली में पार्टी सूत्रों के मुताबिक अप्रैल में राहुल की कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में वापसी तय मानी जा रही है। राहुल को यह जिम्मेदारी बजट सत्र के बाद बैसाखी के आसपास सौंपे जाने की उम्मीद है। राहुल गांधी को 2017 में निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया था लेकिन 2019 के आम चुनावों में पार्टी को मिली करारी हार के बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। राहुल गांधी ने चुनाव हारने की जिम्मेदारी लेते हुए मई में इस्तीफा दिया था, हालांकि पार्टी नेताओं ने उनको काफी समझाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने।

राहुल के इस्तीफे के बाद कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) ने पिछले साल अगस्त में सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त किया था। तभी से पार्टी की पूरी बागडोर सोनिया गांधी के हाथ है। वहीं हाल ही में राहुल गांधी का नाम सामने आने के बाद पूर्व सांसद और शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित ने कहा कि कांग्रेस के पास नेताओं की कमी नहीं है। अब भी कांग्रेस में कम से कम 6-8 नेता हैं जो अध्यक्ष बन कर पार्टी का नेतृत्व कर सकते हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कभी-कभार आप निष्क्रियता चाहते हैं, क्योंकि आप नहीं चाहते हैं कि कुछ हो।

वहीं कांग्रेस नेता शशि थरूर ने पार्टी के नए अध्यक्ष के चुनाव में विलंब को लेकर वरिष्ठ नेताओं पर निशाना साधने वाले पूर्व सांसद संदीप दीक्षित के एक बयान का समर्थन करते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव कराया जाना चाहिए ताकि पार्टी कैडर में ऊर्जा का नया संचार हो सके। इससे पहले मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष संजय निरुपम ने कहा कि कांग्रेस मुश्किल दौर से गुजर रही है और ऐसे में तत्काल राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाया जाना चाहिए। राहुल गांधी के अलावा अगर किसी दूसरे व्यक्ति को अध्यक्ष बनाया जाता है तो पार्टी बिखर जाएगी। निरुपम ने चुनाव की मांग का विरोध किया और कहा कि किसी पार्टी में नेतृत्व का चुनाव नहीं होता है तो फिर कांग्रेस में क्यों होना चाहिए।

nanhe kadam hide