Logo
ब्रेकिंग
Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार

शाहीन बागः वार्ताकार बोले- मीडिया के सामने नहीं होगी बात, प्रदर्शनकारियों ने भी रखीं शर्तें

उन्होंने कहा कि आंदोलन से किसी परेशानी नहीं होनी चाहिए। संजय हेगड़े ने कहा कि बातचीत से ही किसी बात का हल निकाला जा सकता है।

नई दिल्लीः दिल्ली के शाहीन बाग में धरने पर बैठे प्रदर्शनकारियों से बुधवार को सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार बात करने पहुंचे। वार्ताकार वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और साधना राम चंद्रन जैसे ही प्रदर्शन मंच पर पहुंचे तो लोगों ने तालियां बजाकर उनका स्वागत किया। मंच पर पहुंचते ही संजय हेगड़ ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला पढ़ा और कहा प्रोटेस्ट की इजाजत सबको है लेकिन किसी को रास्ता रोकने का अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि हमारे पास वक्त है, हम आपको सुनने आए हैं। वहीं साधना राम चंद्रन ने कहा कि आंदोलन करना आपका अधिकार है लेकिन यह ध्यान रखें कि दूसरों का हक भी बरकरार रहे।

उन्होंने कहा कि आंदोलन से किसी परेशानी नहीं होनी चाहिए। संजय हेगड़े ने कहा कि बातचीत से ही किसी बात का हल निकाला जा सकता है। वहीं उन्होंने कहा कि मीडिया के बिना ही इस मामले पर हम बातचीत करेंगे। साधना राम चंद्रन कहा कि दोनों पक्षों के बीच क्या बात हुई हम खुद इसकी जानकारी मीडिया को देंगे फिलहाल मीडिया बाहर जाए। वहीं बातचीत से पहले प्रदर्शनकारियों ने अपनी कुछ शर्तें वार्ताकारों के सामने रखीं।

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ 67 दिन से धरना जारी है। सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में सुनवाई जारी है और कोई अंतिम आदेश जारी नहीं किया गया है लेकिन कोर्ट कई बार प्रदर्शनकारियों से कह चुका है कि हर किसी का अधिकार है कि वो आंदोलन करे लेकिन इससे दूसरों को परेशानी नहीं होनी चाहिए इसका भी ध्यान रखना जरूरी है। प्रदर्शनकारी CAA वापिस लेने मांग पर अड़े हुए हैं जबकि केंद्र साफ कह चुकी है कि यह फैसला अब वापिस नहीं होगा।