Logo
ब्रेकिंग
Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार

पुणे कोर्ट ने एलगार परिषद केस एनआइए कोर्ट को सौंपा, नवलखा, तेलबुंबडे को नहीं मिली अग्रिम जमानत

यह मामला पुणे के शनिवारवाड़ा में 31 दिसंबर 2017 को आयोजित एलगार परिषद सम्मेलन में भड़काऊ भाषण दिए जाने से संबंधित है।

पुणे:  एलगार परिषद मामले की सुनवाई करने वाली पुणे की अदालत ने इसे मुंबई में एनआइए विशेष कोर्ट को स्थानांतरित कर दिया है। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एसआर नावांडेर ने शुक्रवार को इस संबंध में आदेश पारित किया। राकांपा प्रमुख शरद पवार ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार का भीमा-कोरेगांव मामले को केंद्र को स्थानांतरित करने का फैसला संवैधानिक रूप से गलत है। राकांपा अध्यक्ष ने कहा कि इसका कारण यह है कि अपराध की जांच राज्य के अधिकार क्षेत्र में आती है।

न्यायाधीश के आदेश जारी करने से पहले अभियोजन ने अर्जी सौंपकर कहा कि उसे मामला स्थानांतरित किए जाने की मांग करने वाली राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की अर्जी पर कोई आपत्ति नहीं है। विशेष कोर्ट में स्थानांतरण की मांग करते हुए एनआइए ने 30 जनवरी को पुणे कोर्ट में अर्जी दायर की थी। मामले के सभी आरोपितों को अब 28 फरवरी को मुंबई में एनआइए की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा। केंद्र ने पिछले महीने मामले की जांच एनआइए को सौंप दी थी। महाराष्ट्र की शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस सरकार ने केंद्र के इस कदम की आलोचना की थी।

यह मामला पुणे के शनिवारवाड़ा में 31 दिसंबर 2017 को आयोजित एलगार परिषद सम्मेलन में भड़काऊ भाषण दिए जाने से संबंधित है। पुलिस का दावा है कि इस कारण इसके अगले ही दिन जिले में कोरेगांव-भीमा युद्ध स्मारक के पास ¨हसा भड़क उठी। पुणे पुलिस का दावा है कि इस सम्मेलन को नक्सलियों का समर्थन हासिल था। जांच के दौरान पुलिस ने सुधीर धावले, रोना विल्सन, सुरेंद्र गाडलिंग, महेश राउत, सोमा सेन, अरुण फरेरा, वरनन गोंजाल्विस, सुधा भारद्वाज और वरवर राव को नक्सलियों के साथ संपर्क रखने के आरोप में गिरफ्तार किया। एनआइए ने एलगार परिषद मामले में जिन 11 लोगों को नामजद किया है उनमें से नौ लोग अभी जेल में बंद हैं।

नवलखा, तेलबुंबडे को नहीं मिली अग्रिम जमानत

इधर, बॉम्‍बे हाई कोर्ट ने गौतम नवलखा और आनंद तेलतुंबडे की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी। जस्टिस पीडी नाईक ने नक्सलियों से जुड़े होने के मामले में गिरफ्तारी से पहले जमानत देने की मांग करने वाली याचिका नामंजूर कर दी। कोर्ट ने हालांकि दोनों को गिरफ्तारी से बचने के लिए दिए गए अंतरिम संरक्षण की अवधि चार सप्ताह के लिए बढ़ा दी ताकि वे सुप्रीम कोर्ट जा सकें।