Logo
ब्रेकिंग
माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को

मार्च में होगा बहुपक्षीय नौसेना अभ्यास, जानें क्या होता है ‘मिलान’

सभी देशों की नेवी को यह अभ्यास एक बेहतरीन मौका देता है जिसके जरिये सभी देशों के संबध भी मजबूत होंगे।

नई दिल्ली। भारतीय समुद्र में होने वाली बहुपक्षीय नौसेना अभ्यास ‘मिलान ‘ (Milan)शुरू होने में सिर्फ एक महीना बाकी है। इसके लिए भारतीय नेवी ने तैयारी शुरू कर दी है। भारतीय नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह ने बताया कि मिलान अभ्यास से सभी देशों की नेवी सैनिक आपस से बहुत कुछ सीख पाएंगे और समुद्र की तकनीकों को भी आसानी से जान पाएंगे। मिलान सभी नेवी सैनिकों को सुमद्र के बारे विभिन्न प्रकार की जानकारी मुहैया कराएगा।

मिलान 2020 का मकसद

एडमिरल सिंह ने कहा कि मिलान 2020 बहुपक्षीय नौसेना अभ्यास है। समुद्र में किया जाने वाला यह अभ्यास कई समूहों में बांट कर किया जाएगा। इसमें समुद्री जहाज को चलाने की तकनीक के बारे में भी बताया जाएगा। एडमिरल ने जोर देते हुए कहा कि इस अभ्यास का मकसद समुद्री जहाज चालक के कौशल को तेज करना है। इसके अलावा समुद्री जहाज की सभी जिम्मेदारी सिखाना होगा।

आंध्र प्रदेश में होगा अभ्यास

बता दें कि मार्च महीने में आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में मिलान अभ्यास होना है। इसके लिए 42 देशों के नेवी सैनिकों को शामिल होने के लिए निमंत्रण दिया है। इसमें सुंयक्त अमेरिका और रुस भी शामिल है। मिलान अभ्यास का थीम Synergy Across the Seas रहेगा। भारतीय नेवी चीफ ने साथ ही में कहा कि यह अभ्यास नेवी जहाज कमांडर को कई तकनीक से रू-ब-रू कराएगा। इस दौरान आने वाली दिक्कतों का समाधान निकालने पर भी इस अभ्यास में चर्चा की जाएगी।

अंडमान निकोबर आइलैंड से हुई थी मिलान अभ्यास की शुरुआत

बता दें कि मिलान अभ्यास भारत ने आयोजित किया था। इसकी शुरुआत अंडमान निकोबर आइलैंड में वर्ष 1995 में चार littoral navies हिस्सेदारी के साथ हुई थी। नेवी प्रवक्ता कमांडर विवेक मंडल (Vivek Madhwal) ने बताया कि यह यह अभ्यास द्विवाषिक है।

साथ ही उन्होंने बताया कि सभी देशों की नेवी को यह अभ्यास एक बेहतरीन मौका देता है जिसके जरिये सभी देशों के संबध भी मजबूत होंगे। पिछले दो दशकों में यह अभ्यास काफी विकसित हो रहा है। साल 2018 में आखिरी बार यह अभ्यास किया गया था। इसमें 17 देशों की नेवी ने हिस्सा लिया था।

nanhe kadam hide