पत्नी किंजल ने गुजरात सरकार पर लगाया आरोप कहा, पिछले 20 दिनों से लापता है हार्दिक

इससे पहले 10 फरवरी को सोशल मीडिया के माध्यम से पटेल ने गुजरात सरकार पर जेल में बंद करने की कोशिश करने का आरोप लगाया था

yamaha

अहमदाबाद। गुजरात कांग्रेस के नेता और पाटीदार आरक्षण आंदोलन की अगुवाई करने वाले हार्दिक पटेल की पत्नी किंजल पटेल ने गुजरात प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके पति हार्दिक पटेल पिछले 20 दिनों से लापता हैं। पत्नी किंजल ने इंटरनेट पर साझा किये एक वीडियो में आरोप लगाते हुए कहा कि मेरे पति पिछले 20 दिनों से लापता हैं और वो कहा है इस बारे में हमें कोई जानकारी नहीं है। हम उनकी अनुपस्थिति से बहुत प्रभावित हैं क्या कोई इस तरह का अलगाव सहन कर सकता है।

2017 में, यह सरकार कह रही थी कि पाटीदारों पर सभी मामले वापस ले लिए जाएंगे। फिर वे अकेले हार्दिक को ही क्यों निशाना बना रहे हैं, किंजल ने आरोप लगाया कि पाटीदार आंदोलन के दो अन्य नेताओं को क्यों कुछ नहीं कहा गया जो अब भाजपा में शामिल हो चुके हैं।

किंजल कहती हैं, यह सरकार चाहती कि हार्दिक जनता से न मिले, न बातचीत करें और जनता के मुद्दों को उठाना बंद करें। हालांकि हार्दिक कहा है इस बारे में अभी कोई सूचना नहीं है, लेकिन 11 फरवरी को उन्होंने ट्वीट कर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को विधान सभा चुनाव में जीत के लिए बधाई दी थी।

इससे पहले 10 फरवरी को सोशल मीडिया के माध्यम से पटेल ने गुजरात सरकार पर जेल में बंद करने की कोशिश करने का आरोप लगाया था क्योंकि राज्य में पंचायत चुनाव नज़दीक थे।

एक ट्वीट के माध्यम से पटेल ने कहा, चार साल पहले गुजरात पुलिस ने मेरे खिलाफ एक झूठा मामला दर्ज किया था, लोकसभा चुनाव के दौरान मैंने अहमदाबाद पुलिस आयुक्त से मेरे खिलाफ मामलों का विवरण मांगा था, लेकिन यह मामला मेरे खिलाफ नहीं था। पंद्रह दिन पहले, पुलिस मुझे हिरासत में लेने के लिए मेरे घर पर पहुंची, लेकिन मैं अपने घर में नहीं था।

पटेल ने दूसरे ट्वीट में लिखा है, उच्च न्यायालय में इस झूठे मामले में मेरी अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई चल रही है। मेरे खिलाफ कई गैर-जमानती वारंट भी जारी किए गए हैं। गुजरात में पंचायत चुनाव नजदीक आ रहे हैं, इसीलिए बीजेपी मुझे जेल में बंद करना चाहती है। मैं बीजेपी के खिलाफ जनता की लड़ाई जारी रखूंगा। जल्द मिलेंगे, जय हिंद।

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.