कोलकाता के सीए को पांच लाख रिश्वत लेते सीबीआइ ने दबोचा, गिरिडीह के वीर इस्पात की शिकायत पर कार्रवाई

सरावगी ने तीन फरवरी को सीबीआइ से शिकायत की थी कि उनकी फैक्ट्री का टर्नओवर सही है।

धनबाद। वीर और आदी इस्पात के निदेशक अमित सरावगी की शिकायत पर सीबीआइ, धनबाद की टीम ने आदी इस्पात में छापेमारी कर सीए संजय कुमार अग्रवाल को पांच लाख रुपये रिश्वत लेते धर दबोचा। संजय ने ऑडिट सुधार के नाम पर दो लाख रुपये प्रतिमाह के हिसाब से नौ माह का हिसाब जोड़कर 20 लाख रुपये मांगे थे। रिश्वत की पहली किस्त पांच लाख रुपये लेने वह कोलकाता से फैक्ट्री पहुंचा था जहां सीबीआइ ने धर दबोचा। टीम का नेतृत्व एडिशनल एसपी कर रहे थे।

सरावगी ने तीन फरवरी को सीबीआइ से शिकायत की थी कि उनकी फैक्ट्री का टर्नओवर सही है। बावजूद सीए भौतिक सत्यापन और गड़बड़ी को ठीक कराने के नाम पर रिश्वत की मांग की। इसके बाद सीबीआइ ने कंपनी के दस्तावेजों की जांच इंस्पेक्टर अभय कुमार को सौंपी। दस्तावेज सही पाए जाने पर रिपोर्ट मुख्यालय में दी गई थी। इसके बाद सीए को पकडऩे के लिए जाल बिछाया गया। इसके लिए फैक्ट्री में दस सदस्यीय टीम मंगलवार को पहले पहुंच गई। सबसे पहले सभी कर्मियों का मोबाइल बंद कराया गया। उसके बाद टीम के सदस्य अलग-अलग हिस्से में बंट गए। करीब पांच घंटे तक सीबीआइ टीम फैक्ट्री के अंदर जमी रही। रिश्वत की पहली किस्त लेने पहुंचे सीए को इसकी भनक तक नहीं लगी। मंगलवार को जैसे ही उसने कारखाने में प्रवेश किया, फैक्ट्री के सभी दरवाजे बंद कर दिए गए। इसके बाद उसे धर दबोचा गया।

Whats App