Logo
ब्रेकिंग
DISNEY LAND MELA का रामगढ़ फुटबॉल मैदान में हुआ शुभारंभ विस्थापितों की 60% की भागीदारी सुनिश्चित नहीं हुई, तो होगा CCl का चक्का जाम Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा*

Pm मोदी के हिट एंड रन कानून से भी ज्यादा सख्त है इन देशों के कानून

जरा सोचिए हमारे देश भारत में नए साल की शुरुआत से ही हिट एंड रन कानून को लेकर पूरे देश में बवाल ही बवाल देखने को मिला l चक्का जाम और उग्र विरोध प्रदर्शन के बाद तय हो गया है कि फिलहाल यह कानून नहीं लाया जाएगा l
लेकिन क्या आपको मालूम हैं कि कई ऐसे देश भी हैं जहाँ हिट एंड रन कानून में मौत तक की सजा का भी प्रावधान है ?
नमस्कार, सत श्री अकाल, आदाब, जोहार मैं विनीत शर्मा आज आपको ऐसे ही कुछ देश के हिट एंड रन के सख्त कानून से रूबरू कराने जा रहा हूं l जहाँ सड़क हादसों पर सख्त कानून बनाए गए हैंl जहाँ हिट एंड रन मामले में मौत तक की सजा का भी प्रावधान हैं l

 

दुर्घटना के बाद घायल को छोड़कर भागने के मामलों को कम करने के लिए हिट एंड रन पर नया नियम लाने की कोशिश हुई. अब तक आईपीसी में हिट एंड रन मामलों में घायल की मौत पर दो साल की कैद और फाइन का नियम था. अब ये सजा बढ़ाकर 10 साल कर दी गई, वो भी तब, जबकि ड्राइवर एक्सिडेंट की जानकारी दिए बिना घटनास्थल से भाग निकले, और पीड़ित की मौत हो जाए. हालांकि इसके खिलाफ चक्काजाम हो गया. कई राज्यों के ड्राइवर हड़ताल पर चले गए. अब सुलह के बाद तय हुआ है कि फिलहाल ये कानून नहीं लाया जाए.
लेकिन आप जरा इन मुल्कों के हिट एंड रन कानून को जान ले जहाँ मौत की सजा भी हो सकती है l
हम सबसे पहले बात करते हैं दक्षिण कोरिया कि जहाँ इसे गंभीरतम अपराध की श्रेणी में रखा जाता है. एक तो लापरवाही की वजह से किसी को चोट पहुंचे, और दूसरा, क्राइम करने वाला उसे छोड़कर भाग जाए. इसे रोकने के लिए एक्ट ऑफ एग्रवेटेड पनिशमेंट के तहत दो सेक्शन हैं.

हादसे के बाद अगर ड्राइवर मदद किए बगैर भाग जाए और घायल की मौत हो जाए तो उसे 5 साल से लेकर आजीवन कारावास भी हो सकता है. वहीं अगर ड्राइवर पीड़ित को दुर्घटना स्थल से हटा दे और फिर उसकी मौत हो जाए तो हत्या का दोषी मानकर आजीवन कैद या मौत की सजा भी दी जा सकती है.

बांग्लादेश में वाहन अधिनियम, 1927 के मुताबिक, हादसे के बाद जब तक अस्पताल और पुलिस काम शुरू नहीं कर दें, तब तक ड्राइवर को वहीं बने रहना है. अगर वो ऐसा न करे, और जख्मी की मौत हो जाए तो इसपर मौत की सजा का भी प्रावधान है.
वही चीन में आर्टिकल 101 के तहत हिट एंड रन वाले ड्राइवरों पर भारी सख्ती है. अगर कोई ऐसा करे तो न केवल सजा होती है, बल्कि जिंदगीभर के लिए उसका लाइसेंस भी जब्त हो जाता है. कई और देश भी हैं, जहां हिट एंड रन मामले गैर-जमानती भी होते हैं, साथ ही कैद के बाद लाइसेंस जब्त कर लिया जाता है.
वही ऑस्ट्रेलिया में एक बॉडी काम करती है, जो ड्राइवरों की लापरवाही पर ही नजर रखती है. हर सड़क हादसे के बाद दुर्घटना के नेचर के हिसाब से ड्राइवर की मार्किंग होती है. इसके बाद पेनल्टी लगती है, या फिर लाइसेंस ले लिया जाता है. वैसे ज्यादातर ऑस्ट्रेलियाई प्रांतों में इसके लिए अलग-अलग सजाएं हैं.

वही यूनाइटेड किंगडम में हिट एंड रन को गंभीर अपराध माना जाता है. ऐसा करने पर 14 साल की कैद और भारी-भरकम जुर्माना हो सकता है. इसके अलावा हिट एंड रन के मामूली केस में भी दो साल के लिए ड्राइवर का लाइसेंस कैंसल हो सकता है.

कनाडा क्रिमिनल कोड के तहत ऐसे मामलों में 10 साल की सजा हो सकती है, अगर हादसे में घायल की मौत हो जाए तो आजीवन कारावास की सजा यहां आम है.

और अमेरिका में अलग-अलग स्टेट्स इसके लिए अलग सजा देते हैं. वैसे लंबी जेल के साथ 16 लाख रुपए तक का जुर्माना हो सकता है. इसके बाद भी अमेरिका में रोड सेफ्टी उतनी बढ़िया नहीं.

यूएई में अगर हादसे के बाद ड्राइवर गायब हो जाए तो उसे सीधे 45 लाख रुपए का जुर्माना भरना होता है. यहां पर नियम है कि हादसे के 6 घंटे के भीतर उसकी रिपोर्ट की जाए, वरना गंभीर नतीजे हो सकते हैं.

अब जानते हैं किन देशों में सबसे कम होते हैं हादसे l

रोड सेफ्टी के मामले में नीदरलैंड सबसे ऊपर है. अलग-अलग मानकों पर जांचने के बाद भी तमाम एजेंसियों ने इस देश को 10 में से 7.86 स्कोर दिए. प्रति 100,000 लोगों पर केवल 1.5 यातायात संबंधी मौतें होती हैं.

इसकी कई वजहें हैं

वहां रोड सेफ्टी पॉलिसी बहुत मजबूत है. इसे पक्का करने के लिए मिनिस्ट्री ऑफ इंफ्रास्ट्रक्चर एंड एनवायरमेंट मिलकर काम करते हैं. वे कोशिश करते हैं कि सड़कों पर कम से कम गाड़ियां चलें. नीदरलैंड में साइकिल चलाने को इतना प्रमोट किया गया कि वहां लगभग सबके पास एक साइकिल है. इसके अलावा तीनों स्कैंडिनेवियाई देश (नॉर्वे, स्वीडन और डेनमार्क) गाड़ी चलाने के लिए सबसे सेफ जगहों में टॉप पर हैं.

अब फिर भारत में क्या हिसाब-किताब हैं इसे जानते हैं l

अगर सबसे खतरनाक सड़कों की बात करें, तो भारत इसमें टॉप 5 में है. ड्राइवर्स एजुकेशन कंपनी जुटोबी के सर्वे में इसे 10 में से 5.48 मार्क्स मिले. इसमें रोड, ट्रैफिक डेथ फिगर, स्पीड लिमिट, सीट बेल्ट पहनने की आदत और गाड़ी चलाते हुए नशे में होने जैसे मापदंड लिए गए थे. दक्षिण अफ्रीका, थाइलैंड, अमेरिका और अर्जेंटिना हमसे भी आगे हैं l

तो हमने आपको कई देश के हिट एंड रन कानून के बारे में बताया l और हम सभी जानते हैं कि किसी भी कानून को सख्त बनाने की आवश्यकता कब आती है जब वह मामला गंभीर होता जैसा कि हमारे देश की हालत को देखे तो प्रत्येक दिन 3600 और प्रत्येक मिनट दो लोगों की मौत का आंकड़ा रिकॉर्ड है l जिसके पीछे कई गंभीर कारण है हम सबको जरूरत है अपने कर्तव्य को समझने की और अगर हम ईमानदारी पूर्वक अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने लगे मतलब स्पीड लिमिट का पालन करें, नशे में वाहन ना चलाएं, सीट बेल्ट लगा कर चले, रफ़ ड्राइविंग ना करें तो दुर्घटनाओं में बहुत हद तक कमी आ जाएगी l
फिर हम नए खबर के साथ मिलते हैं तब तक के लिए जय हिंद, जय भारत l