Logo
ब्रेकिंग
Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l

CM योगी के पिता की फिर बिगड़ी तबियत, एम्स में भर्ती

इलाज इमरजेंसी वार्ड में चल रहा है, इसलिए भर्ती वार्ड में किसी को भी प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी जा रही है।

 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ठ की फिर से तबियत खराब हो गई है। उन्हें लीवर में परेशानी होने के चलते इलाज के लिए ऋषिकेश के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में भर्ती कराया गया है। एम्स के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मुकेश त्रिपाठी की देखरेख में चल रहा है।

बताया जा रहा है कि इलाज इमरजेंसी वार्ड में चल रहा है, इसलिए भर्ती वार्ड में किसी को भी प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी जा रही है। आनंद सिंह बिष्‍ट की सेहत पर अपडेट देते हुए डॉ मुकेश त्रिपाठी का कहना है कि उनकी हालत में सुधार हो रहा है।

इससे पहले भी तबीयत रही खराब
इससे पहले भी सीएम योगी के पिता की तबीयत खराब हुई थी। मार्च में उन्‍हें डिहाइड्रेशन की शिकायत हुई थी जिसके चलते देहरादून के निजी अस्‍पताल जौलीग्रांट हिमालयन हॉस्पिटल में उन्हें दाखिल कराया गया था। वहां से उन्‍हें दिल्‍ली के एम्‍स रेफर किया गया था।

जानकारी के मुताबिक सीएम योगी के पिता उत्तराखंड में फॉरेस्ट रेंजर पद पर कार्यरत थे और 1991 में रिटायर होने के बाद अपने गांव में ही परिवार सहित रहते हैं। वहीं आपको बता दें कि योगी आदित्यनाथ मूल रूप से उत्तराखंड के यमकेश्वर प्रखंड के पंचूर गांव के रहने वाले हैं। संन्यास लेने के बाद उन्होंने अपना पता भी बदल दिया था और गोरखनाथ के मठ को ही अपना स्थायी निवास बनाया था।