Logo
ब्रेकिंग
भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर याद किए गए नेताजी, रामगढ़ से जुड़ा है नेताजी के कई लम्हो का नाता । स्वीप के तहत जिला प्रशासन एकादश एवं दिव्यांग एकादश के बीच हुआ क्रिकेट मैच का आयोजन । नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती एवं पराक्रम दिवस के अवसर पर माल्यार्पण कार्यक्रम का हुआ आयोजन । रामप्रसाद चंद्रभान सरस्वती विद्या मंदिर में संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन। मेदांता रांची द्वारा अधिवक्ता संघ परिसर में लगाया गया निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर । रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव को लेकर कांग्रेस के पदाधिकारियों की हुई बैठक ।

CM योगी के पिता की फिर बिगड़ी तबियत, एम्स में भर्ती

इलाज इमरजेंसी वार्ड में चल रहा है, इसलिए भर्ती वार्ड में किसी को भी प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी जा रही है।

 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ठ की फिर से तबियत खराब हो गई है। उन्हें लीवर में परेशानी होने के चलते इलाज के लिए ऋषिकेश के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में भर्ती कराया गया है। एम्स के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मुकेश त्रिपाठी की देखरेख में चल रहा है।

बताया जा रहा है कि इलाज इमरजेंसी वार्ड में चल रहा है, इसलिए भर्ती वार्ड में किसी को भी प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी जा रही है। आनंद सिंह बिष्‍ट की सेहत पर अपडेट देते हुए डॉ मुकेश त्रिपाठी का कहना है कि उनकी हालत में सुधार हो रहा है।

इससे पहले भी तबीयत रही खराब
इससे पहले भी सीएम योगी के पिता की तबीयत खराब हुई थी। मार्च में उन्‍हें डिहाइड्रेशन की शिकायत हुई थी जिसके चलते देहरादून के निजी अस्‍पताल जौलीग्रांट हिमालयन हॉस्पिटल में उन्हें दाखिल कराया गया था। वहां से उन्‍हें दिल्‍ली के एम्‍स रेफर किया गया था।

जानकारी के मुताबिक सीएम योगी के पिता उत्तराखंड में फॉरेस्ट रेंजर पद पर कार्यरत थे और 1991 में रिटायर होने के बाद अपने गांव में ही परिवार सहित रहते हैं। वहीं आपको बता दें कि योगी आदित्यनाथ मूल रूप से उत्तराखंड के यमकेश्वर प्रखंड के पंचूर गांव के रहने वाले हैं। संन्यास लेने के बाद उन्होंने अपना पता भी बदल दिया था और गोरखनाथ के मठ को ही अपना स्थायी निवास बनाया था।

nanhe kadam hide