Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

कोल्हान में पांच जंगली हाथियों की मौ’ त l जिम्मेदार कौन?

घाटशिला : झारखंड में जंगली हाथियों की करंट लगकर लगातार हो रही मौत को लेकर अब सवाल खड़े होने लगे हैं। मंगलवार को घाटशिला मुसाबनी वन क्षेत्र अंतर्गत ऊपर बांध गांव में करंट लगने से एक साथ पांच हाथियों की मौत हो गई. बताया जाता है कि 33 हजार वोल्ट तार की चपेट आने से हुई पांचों हाथियों की मौत हुई है. ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग को दे दी. घटना की जानकारी मिलते आसपास के ग्रामीणों की भीड़ घटनास्थल पर जुट गए।

हाथियों की मौत को लेकर इलाके के लोंगों ने कई सवाल भी खड़े किए हैं। लोगों का कहना है कि आखिर बिजली की करंट लगकर पांच हाथियों की मौत हो गई है। इसके लिए कोन जिम्मेदार है। जिला प्रशासन के साथ साथ बिजली विभाग और फारेस्ट डिपार्टमेंट के अधिकारी हाथियों की हुई मौत पर मंथन जरुर कर रहे हैं। लेकिन कई सवाल भी खड़े हो रहे हैं।
जानकारी के अनुसार जंगली हाथियों के इस झुंड में और भी हाथी हैं। इस तरह के अपने झुंड के हाथियों की मौत होने के बाद बचे हाथी जल्दी इलाके से बाहर नहीं जाते हैं। साथ ही साथ अपने साथियों के नजदीक आने की भी कोशिश करते हैं। ऐसे में डर इस बात का भी है कि कहीं और भी जंगली हाथी बिजली की करंट की चपेट में ना आ जाए।
हालांकि डीसी मंजुनाथ भजत्री ने तमाम अधिकारियों को इससे संबंधित दिशानिर्देश दे दिए है। बिजली के तारों को और ऊंचा करने के साथ साथ समुचित सुरक्ष व्यवस्था को दुरुस्त करने काभी निर्देश दिया है। बाकी जंगली हाथियों को उनके कॉरिडोर क्षेत्र में पहुंचाने की भी तैयारी की जा रही है।