Logo
ब्रेकिंग
Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l

‘बिहार विधानसभा में हुई लोकतंत्र की हत्या’, विधायकों पर हमले को लेकर कांग्रेस का NDA पर वार

नई दिल्ली। बिहार में कांग्रेस और राजद विधायकों पर कथित हमले के बाद, बुधवार को कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि विधानसभा में लोकतंत्र की हत्या की गई है। सुरजेवाला ने कहा, ‘बिहार विधानसभा में लोकतंत्र की हत्या की गई है। लोकतांत्रिक स्वामित्व की हर सीमा का उल्लंघन किया गया है। भाजपा और जदयू के इशारे पर पुलिस ने गुंडागर्दी के आरोप में राजद और कांग्रेस के विधायकों की पिटाई की।’

उन्होंने कहा कि अगर अब भी आवाज नहीं उठाई जाती है, तो न तो लोकतंत्र और न ही देश बच पाएगा। उन्होंने सवाल किया कि क्या यह शर्मनाक दृश्य देश के इतिहास में किसी विधान सभा में देखा गया है?

बता दें कि विपक्षी दलों ने बुधवार को बिहार विधानसभा में बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक, 2021 के पारित होने के दौरान विधायकों पर हमले की निंदा की। मंगलवार शाम की घटना की निंदा करने वाले दलों में राष्ट्रीय जनता दल, समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी, कांग्रेस, द्रविड़ मुनेत्र कड़गम, तेलंगाना राष्ट्र समिति, तृणमूल कांग्रेस और शिवसेना शामिल हैं।

एक संयुक्त बयान में, पार्टियों ने कहा, ‘बिहार में ‘काले कानून’ के माध्यम से पुलिस को ‘एक सशस्त्र मिलिशिया’ में बदला जा रहा है ताकि सत्ता के सामने सच बोलने वालों को दबाया जा सके।’ कहा गया कि यह एक असंवैधानिक बिल है जो प्रभावी रूप से पुलिस बल को सशस्त्र मिलिशिया में बदल देगा। उत्पीड़न, दबाने,  पत्रकारों पर कार्रवाई और राजनीतिक विपक्ष और वे सभी जो सत्ता के लिए सच बोलने की हिम्मत करते हैं। उन सभी पर भारी पड़ेगा।