Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

तमिलनाडु की सात जातियां देवेंद्रकुला वेल्लालार समुदाय में होंगी शामिल, जानें क्यों लिया गया फैसला

नई दिल्ली। तमिलनाडु की सात जातियों को देवेंद्रकुला वेल्लालार समुदाय में शामिल करने के प्रस्ताव को संसद की मंजूरी मिल गई है। राज्यसभा ने सोमवार को इससे संबंधित संविधान (अनुसूचित जाति)आदेश (संशोधन) विधेयक 2021 को पारित कर दिया। लोकसभा में यह विधेयक पिछले हफ्ते ही पारित हो गया था। अब इसे मंजूरी के लिए राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। इस बिल के जरिये संविधान (अनुसूचित जाति) आदेश, 1950 में बदलाव किया गया है।

इस विधेयक के जरिये देवेंद्रकुलन वेल्लार के साथ देवेंद्रकुलथन समुदाय की प्रविष्टि बदल जाएगी। अधिनियम में अभी इस समुदाय की अलग से प्रविष्टि है। लेकिन अब इसे देवेंद्र कुला वेल्लालार में समाहित किए जाने वाले समुदायों में शामिल किया गया है। इन समुदायों में देवेंद्रकुलथन, कल्लाड़ी, कुदुंबन, पल्लन, पन्नाडी और वतिरियान शामिल हैं। अलग से प्रविष्टि को खत्म कर दिया जाएगा।

विधेयक पर बहस का जवाब देते हुए, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत ने विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि इस विधेयक का तमिलनाडु के विधानसभा चुनावों से कोई संबंध नहीं है। अनुसूचित जातियों की सूची में संशोधन के लिए एक निर्धारित प्रक्रिया है और इसकी शुरुआत 2015 में राज्य सरकार की तरफ से प्रस्ताव भेजने के साथ हुई थी। तमिलनाडु में विधानसभा चुनाव 6 अप्रैल को होंगे।