Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

भाजपा ने असम में शुरुआती 2 चरणों के लिए तय किए उम्मीदवार, आज जारी हो सकती है लिस्ट

नई दिल्ली। भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति ने गुरुवार शाम असम विधानसभा चुनाव के शुरुआती दो चरणों की खातिर उम्मीदवारों के नाम तय कर लिए। 27 मार्च और एक अप्रैल को होने वाले चुनावों में 86 सीटों पर मतदान कराया जाएगा। भाजपा के एक शीर्ष पदाधिकारी ने बताया कि असम में शुरुआती दो चरणों में होने वाले चुनाव के लिए उम्मीदवारों का नाम तय कर लिया गया है। विस्तृत विचार-विमर्श के बाद इन उम्मीदवारों के नाम को मंजूरी दी गई है। अब पार्टी इन उम्मीदवारों का एलान करेगी।

उम्मीद है कि शुक्रवार शाम तक सूची जारी कर दी जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्रियों-अमित शाह और राजनाथ सिंह समेत केंद्रीय चुनाव समिति के अन्य सदस्य बैठक में शामिल हुए। इसके अलावा पार्टी के महासचिव (संगठन) बीएल संतोष भी बैठक में मौजूद थे। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, राज्य के प्रभारी बैजयंत पांडा और असम के चुनाव प्रभारी नरेंद्र सिंह तोमर ने भी बैठक में भाग लिया।

असम में सीट बंटवारे का हो सकता है जल्द ऐलान

असम में असम में बीजेपी गठबंधन के अन्य दलों के साथ सीटों के बंटवारे पर सहमति को लेकर जल्द ऐलान किया जा सकता है। इसको लेकर पार्टी में मंथन चल रहा है।

बता दें कि 2016 के चुनाव में बीजेपी 84 सीटों पर लड़ी थी और उसमें 60 सीटें जीती थी, जबकि 2011 के चुनाव में उसके पास महज 5 सीटें थीं। असम गण परिषद ने 24 में से 14 सीटें जीती थी, जबकि यूपीपीएल चार सीटों में से एक भी नहीं जीत पाई थी। इस बार भाजपा के गठबंधन से अलग हुई बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (BPF) ने तब 16 में से 12 सीटें जीती थीं। हालांकि इस बार वह कांग्रेस के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है।