Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

विदेशी निवेशकों ने फरवरी महीने में भारतीय बाजारों में किया 23,663 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश

नई दिल्ली। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (FPI) साल 2021 में लगातार दूसरे महीने शुद्ध निवेशक बने हुए हैं। विदेशी निवेशक फरवरी महीने में भारतीय बाजारों में 23,663 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश कर चुके हैं। आम बजट को लेकर सकारात्मक धारणा और कंपनियों के दिसंबर तिमाही के नतीजे अच्छे रहने के बीच एफपीआई द्वारा यह निवेश किया गया है। एफपीआई ने साल 2020 में भारतीय बाजारों में भारी निवेश किया था और यह क्रम साल 2021 में भी जारी है।

डिपॉजिटरी आंकड़ों के अनुसार, 1 से 26 फरवरी के दौरान एफपीआई ने शेयरों में शुद्ध रूप से 25,787 करोड़ रुपये निवेश किये हैं। वहीं, एफपीआई ने ऋण या बॉन्ड बाजार से 2,124 करोड़ रुपये की निकासी भी की है। इस तरह एफपीआई ने फरवरी में भारतीय बाजारों में शुद्ध रूप से 23,663 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

इससे पहले पिछले महीने यानी जनवरी, 2021 में एफपीआई ने भारतीय बाजारों में शुद्ध रूप से 14,649 करोड़ रुपये का निवेश किया था। कोटक सिक्योरिटीज के उपाध्यक्ष एवं प्रमुख (बुनियादी शोध) रुस्मिक ओझा ने बताया कि इस महीने एफपीआई के इनफ्लो का प्रमुख कारण आम बजट और कंपनियों के अच्छे तिमाही नतीजे रहे। ओझा ने कहा कि जो यील्ड साल की शुरुआत में 0.91 फीसद से शुरू हुई थी, वह अब बढ़कर 1.47 फीसद हो गई है। इससे विश्व भर में बॉन्ड यील्ड में तेजी आएगी

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा कि अमेरिका में 10 साल के बॉन्ड पर प्राप्ति बढ़ने से एफपीआई का प्रवाह सुस्त हुआ है। उन्होंने बताया कि पूंजी प्रवाह में अमेरिका के 10 साल के बॉन्ड पर प्राप्ति का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि मुद्रास्फीति को लेकर बॉन्ड पर प्राप्ति बढ़ रही है और इससे पूंजी का प्रवाह कमजोर पड़ेगा।

यहां बता दें कि बीते हफ्ते बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 3.80 फीसद या 1939.32 अंक की गिरावट के साथ 49,099.99 पर बंद हुआ। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक निफ्टी 3.76 फीसद या 568.20 अंक की गिरावट के साथ 14,529.15 पर बंद हुआ।