Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ से पैदल मार्च करते हुए दिल्ली के लिए रवाना हुए स्वच्छता दूत। प्रदूषण के मुद्दे पर आलोक स्टील का घेराव कर रहे चार ग्रामीण गिरफ्तार, दबाव पर पुलिस ने छोड़ दिया । ट्रिपल म'र्डर मामले में रामगढ़ कोर्ट का बड़ा फैसला, आरपीएफ जवान पवन सिंह को फां'सी की सजा । देश की राजधानी दिल्ली सहित कई राज्यों मे प्रसिद्ध दिल्ली दरबार अब आपके शहर रामगढ़ में । फर्स्ट राउंड चुनाव परिणाम :5838 वोट से एनडीए प्रत्याशी सुनीता चौधरी आगे, रामगढ़ उपचुनाव प्रथम चरण मे... बेहतरीन तकनीकी की बदौलत दुनियाँ में तहलका मचाती Yamaha अब युवतियों को अपनी ओर खींच रहा । रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव मतदान संपन्न, 67.96 प्रतिशत लोगों ने डाले वोट, 2 मार्च को चुनाव परिणाम रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव : डीसी माधवी मिश्रा ने मतदान केंद्रों का किया निरीक्षण, दिये निर्देश रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव : एनडीए प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने पूरे परिवार के साथ किया मतदान रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव : उपायुक्त माधवी मिश्रा और एसपी पीयूष पांडेय ने किया मतदान

केरल स्वतंत्र, निष्पक्ष और विश्वसनीय चुनाव कराने के लिए तैयार,12 मार्च को जारी होगी अधिसूचना

तिरुवनंतपुरम। देश में पांच राज्यों में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। इसमें केरल भी शामिल है। हाल ही में चुनाव आयोग ने इन पांच राज्यों में चुनावी तारीखों का एलान किया है, जिसके बाद केरल मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि वह केरल में स्वतंत्र, निष्पक्ष और विश्वसनीय चुनाव कराने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। उन्होंने कहा कि अधिसूचना 12 मार्च को जारी की जाएगी। आगे उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के सभी अधिकारियों को निर्देश जारी किए जा चुके हैं कि आदर्श आचार संहिता का पालन सुनिश्चित करें। बता दें कि केरल में 6 अप्रैल, 2021 को विधानसभा चुनाव होने हैं, जिसका परिणाम 2 मई 2021 के दिन आएगा। इस राज्य में कुल140 विधानसभा सीट के लिए चुनाव आयोजित किए जाएंगे।

साल 2016 में इस पार्टी की हुई थी जीत

केरल विधानसभा चुनाव से पहले चुनावी समीकरण की बात करें तो यहां पर साल 2016 में विधानसभा चुनावों में CPIM के नेतृत्व वाले गठबंधन LDF ने 91 सीटों पर जीत दर्ज की थी और सरकार बनाई थी। इसी प्रकार कांग्रेस के UDFगठबंधन को केरल विधानसभा 2016 के चुनावों में 47 सीटें मिलीं थीं।

साल 2016 के केरल विधानसभा चुनाव के परिणामों की बात करे तो लेफ्ट गठबंधन (LDF) वाली सीपीआई (एम) को 56 सीटें मिलीं थीं, सीपीआई को 19 सीटें मिली थी। जनता दल (सेक्युलर) पार्टी को 3 सीटें मिली थीं और एनसीपी को 2 सीटें मिलीं थीं। वहीं UDF गठबंधन वाली कांग्रेस को 22 सीटें मिलीं थीं, IUML (Indian Union Muslim League) को 18 सीटें मिलीं थीं, केरल कांग्रेस (एम) को 6 सीटें हासिल की थी। इन सबके हटके तीसरा गठबंधन भाजपा का भी था,लेकिन उसमें से किसी भी पार्टी एक भी सीट नहीं मिल पाई थी, बस भाजपा को ही वहां एक सीट मिल सकी थी।

nanhe kadam hide