Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

एनआइए ने दो लश्कर आतंकियों के खिलाफ दाखिल किया आरोप पत्र, प्रमुख हिंदू शख्सियतों की हत्या की साजिश का आरोप

बेंगलुरु। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (National Investigative Agency, NIA) ने सोमवार को पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों के खिलाफ पूरक आरोप पत्र दाखिल किया। दोनों आतंकियों पर देश में विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने, भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने और हिंदू समुदाय की प्रमुख शख्सियतों की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

एनआइए (National Investigative Agency, NIA) के प्रवक्ता ने बताया कि दोनों आतंकियों बेंगलुरु के डा. शबील अहमद और हैदराबाद के असदुल्ला खान के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आइपीसी) और गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) की धाराओं के तहत आरोप पत्र दाखिल किया गया है।

बेंगलुरु में अगस्त, 2012 में दर्ज किया गया यह मामला प्रतिबंधित आतंकी संगठनों लश्कर ए तैयबा और हरकत उल जिहाद ए इस्लामी (हूजी) के सदस्यों द्वारा रची गई साजिश से संबंधित है। अधिकारियों के मुताबिक, उन्होंने कर्नाटक के बेंगलुरु व हुबली, महाराष्ट्र के नांदेड़ और तेलंगाना के हैदराबाद में हिंदू समुदाय की अहम शख्सियतों को निशाना बनाकर समाज में सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने और समाज में आतंक फैलाने के लिए गैरकानूनी हथियार और गोला-बारूद जुटा लिए थे।

एनआइए (National Investigative Agency, NIA) ने नवंबर, 2012 में यह मामला दोबारा दर्ज किया था और 17 आरोपितों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था। एनआइए प्रवक्ता ने बताया कि लश्कर के दोनों सदस्य अहमद और खान अन्य आरोपितों के साथ सऊदी अरब के दम्मम और रियाद के आतंकी संगठन के उद्देश्य में मदद करने और बढ़ाने के लिए आपराधिक साजिश में शामिल थे।

उन्होंने उन बैठकों में सक्रियता से हिस्सा लिया था जिसमें बेंगलुरु, हुबली और नांदेड़ में हिंदू समुदाय की अहम शख्सियतों की हत्या जैसी आतंकी गतिविधियों की योजना बनाई गई थी। सितंबर, 2016 में बेंगलुरु स्थित विशेष एनआइए अदालत ने इस मामले में 13 आरोपितों को दोषी करार दिया था और उन्हें पांच साल कैद की सजा सुनाई थी।