Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

भारत ने जमीन से हवा में मार करने वाली स्वदेशी मिसाइल वीएल-एसआरएसएएम का किया सफल परीक्षण

बालेश्वर (ओडिशा)। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के विज्ञानियों ने सोमवार दोपहर करीब डेढ़ बजे चांदीपुर के अंतरिम परीक्षण रेंज (आइटीआर) के एलसी-3 से पहली बार स्वदेशी वर्टिकली लांच शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (वीएल-एसआरएसएएम) का सफल परीक्षण किया।

तीन घंटे के अंदर दो बार सफलतापूर्वक छोड़ा गया 

मात्र तीन घंटे बाद शाम 4.42 बजे एलसी-3 से ही दूसरा सफल परीक्षण किया गया। इस स्वदेशी मिसाइल के सफल परीक्षण से भारत की वायु प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती मिली है। इस मिसाइल को नौसेना और वायुसेना को मजबूती प्रदान करने की दिशा में मजबूत कड़ी माना जा रहा है।

राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ को दी सफल परीक्षण पर बधाई 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ को सफल परीक्षण पर बधाई दी है। यह जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल है।

मिसाइल की मारक क्षमता 40 किमी, ड्रोन, मिसाइल या लड़ाकू विमान को मारने में सक्षम

इसकी मारक क्षमता करीब 40 किलोमीटर तक है। यह चारों दिशाओं से 360 डिग्री के लक्ष्य से किसी भी दिशा से आने वाले ड्रोन, मिसाइल या लड़ाकू विमान को मार गिराने में सक्षम है। यह किसी भी छोटे स्थान को सौ फीसद सुरक्षा (प्वाइंट डिफेंस सिसटम) देने में सक्षम होगा।

डीआरडीओ मेक इन इंडिया के तहत नई मिसाइलें बना रहा है और परीक्षण कर रहा

परीक्षण के समय रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी और विज्ञानियों का दल मौजूद था। मालूम हो कि डीआरडीओ मेक इन इंडिया के तहत स्वदेशी ज्ञान कौशल से नई मिसाइलें बना रहा है और परीक्षण कर रहा है। मिसाइल तकनीक के लिए भारत अब किसी देश पर निर्भर नहीं रहना चाहता है।

तीन किलोमीटर के दायरे के सभी गांवों को कराया गया था खाली

परीक्षण को देखते हुए सोमवार सुबह पांच बजे से ही तीन किलोमीटर के दायरे के सभी गांवों के 800 परिवारों के दस हजार लोगों को तीन अस्थायी शिविरों में भेज दिया गया था। इसके लिए जिला प्रशासन ने एक दिन पहले ही गांवों में माइक से प्रचार कराया था। करीब 30 यात्री वाहनों से इन लोगों को अस्थायी शिविरों में पहुंचाया गया था। परीक्षण के बाद शाम को सभी लोग घर पहुंचा दिए गए।