Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

आर्मी कमांडर बोले- युद्ध के मुहाने पर थे भारत-चीन; 31 अगस्त को आमने-सामने थी सेनाएं, बेहद नाजुक हालात थे

जम्मू: सेना की उत्तरी कमान के जनरल आफिसर कमाडिंग इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने कहा है कि गत वर्ष अगस्त माह के अंत में पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत सेना व चीन युद्ध के मुहाने पर थे। युद्ध ऐसे समय टला था जब हालात बहुत नाजुक बन गए थे

पूर्वी लद्दाख में कई अहम चोटियों को भारतीय सेना द्वारा अपने कब्जे में लिए जाने के बाद क्षेत्र में युद्ध के हालात बन गए। गलवन से उपजे हालात में हमारे जूनियर नेतृत्व ने सराहनीय भूमिका निभाई। उन्होंने बताया तिलिमिलाए चीन की सेना की पूरी कोशिश थी कि भारतीय सेना से चोटियां छीनी जाए। ऐसा संभव नही था।

इस समय समझौते के बाद वास्तविक नियंत्रण रेखा से चीन, भारतीय सेना को पीछे हटाने की मुहिम के बीच लेह दौरे पर पहुंचे आर्मी कमांडर ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि गत वर्ष 31 अगस्त को वास्तविक नियंत्रण पर दोनों सेनाएं एक दूसरे के सामने कार्रवाई करने के लिए तैयार खड़ी थी। उन्होंने बताया कि हालात 29 अगस्त से बेहद नाजुक थे। चीन भारतीय सेना द्वारा अपने कब्जे में ली गई अपनी चोटियों को वापस लेने के लिए आगे बढ़ रहा था।

जनरल ने बताया कि 31 अगस्त को हमने वास्तविक नियंत्रण रेखा की कैलाश रेंज पर अपने सैनिकों व टैंकों को किसी भी कार्रवाई के लिए तैयार रखा था। हमारा पलड़ा भारी था। चीन की सेना के टैंक ढ़लानों से आगे आ रहे थे। कुछ भी हो सकता था। ऐसे हालात में युद्ध टला जब विकट हालात पैदा हो गए थे।

वहीं गलवन में चीन सेना को हुए नुकसान पर जीओसी इन सी ने बताया कि हमारी सेना ने चीन के करीब 60 सैनिकों को स्ट्रेचर पर डाल कर ले जाते देखा था। अलबत्ता उन्होंने स्पष्ट किया कि यह कहा नही जा सकता है कि स्ट्रेचर पर डाले कर ले जा गए चीनी सैनिक घायल थे या उनकी मौत हो गई थी।