Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

ईपीएफओ ट्रस्टी बोर्ड की श्रीनगर में चार मार्च को बैठक, ब्याज दर पर हो सकता है फैसला

नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष के लिए पीएफ खाताधारकों को कितना ब्याज दिया जाए, इस बारे में चार मार्च को फैसला हो सकता है। उस दिन कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के ट्रस्टी बोर्ड की श्रीनगर में बैठक होने वाली है

ईपीएफओ के ट्रस्टी रघुनाथन ने कहा- श्रीनगर में चार मार्च को ट्रस्टी बोर्ड की प्रस्तावित बैठक

ईपीएफओ के एक ट्रस्टी केई रघुनाथन ने कहा कि उन्हें श्रीनगर में चार मार्च को ट्रस्टी बोर्ड की प्रस्तावित बैठक की सूचना सोमवार को दी गई है। इस बैठक का एजेंडा भी जल्द मिलने की उम्मीद है। हालांकि सूचना में इसका जिक्र नहीं है कि चालू वित्त वर्ष के लिए ब्याज पर फैसला होगा या नहीं।

ईपीएफओ चालू वित्त वर्ष के लिए ब्याज दरों में कमी कर सकता है 

ऐसी संभावना जताई जा रही है कि चालू वित्त वर्ष के लिए ईपीएफओ ब्याज दरों में कमी कर सकता है। इसके पीछे तर्क यह है कि कोरोना संकट के दौर में खाताधारकों ने पीएफ से बड़ी रकम की निकासी की है। दूसरी तरफ, बड़ी संख्या में नौकरियां जाने से ईपीएफओ में जमा की जाने वाली रकम भी घटी है।

पिछले वित्त वर्ष के लिए ईपीएफओ ने 8.5 फीसद ब्याज दर घोषित की थी

पिछले वित्त वर्ष (2019-20) के लिए ईपीएफओ ने 8.5 फीसद ब्याज दर घोषित की थी, जो सात वर्षों का निचला स्तर था। इन सात वर्षों में सबसे ज्यादा ब्याज दर वित्त वर्ष 2015-16 के लिए 8.8 फीसद थी।