Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

ईपीएफओ ट्रस्टी बोर्ड की श्रीनगर में चार मार्च को बैठक, ब्याज दर पर हो सकता है फैसला

नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष के लिए पीएफ खाताधारकों को कितना ब्याज दिया जाए, इस बारे में चार मार्च को फैसला हो सकता है। उस दिन कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के ट्रस्टी बोर्ड की श्रीनगर में बैठक होने वाली है

ईपीएफओ के ट्रस्टी रघुनाथन ने कहा- श्रीनगर में चार मार्च को ट्रस्टी बोर्ड की प्रस्तावित बैठक

ईपीएफओ के एक ट्रस्टी केई रघुनाथन ने कहा कि उन्हें श्रीनगर में चार मार्च को ट्रस्टी बोर्ड की प्रस्तावित बैठक की सूचना सोमवार को दी गई है। इस बैठक का एजेंडा भी जल्द मिलने की उम्मीद है। हालांकि सूचना में इसका जिक्र नहीं है कि चालू वित्त वर्ष के लिए ब्याज पर फैसला होगा या नहीं।

ईपीएफओ चालू वित्त वर्ष के लिए ब्याज दरों में कमी कर सकता है 

ऐसी संभावना जताई जा रही है कि चालू वित्त वर्ष के लिए ईपीएफओ ब्याज दरों में कमी कर सकता है। इसके पीछे तर्क यह है कि कोरोना संकट के दौर में खाताधारकों ने पीएफ से बड़ी रकम की निकासी की है। दूसरी तरफ, बड़ी संख्या में नौकरियां जाने से ईपीएफओ में जमा की जाने वाली रकम भी घटी है।

पिछले वित्त वर्ष के लिए ईपीएफओ ने 8.5 फीसद ब्याज दर घोषित की थी

पिछले वित्त वर्ष (2019-20) के लिए ईपीएफओ ने 8.5 फीसद ब्याज दर घोषित की थी, जो सात वर्षों का निचला स्तर था। इन सात वर्षों में सबसे ज्यादा ब्याज दर वित्त वर्ष 2015-16 के लिए 8.8 फीसद थी।