Logo
ब्रेकिंग
Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l

असम में मोदी सरकार पर बरसे राहुल गांधी, बोले- ध्यान से सुन लो, यहां लागू नहीं होगा CAA

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज असम में विधानसभा चुनावों के लिए कैंपेन की शुरुआत की। इस दौरान उन्हाेंने भाजपा और आरएसएस पर जमकर भडास निकाली। उन्होंने मोदी सरकार पर  असम को बांटने का आरोप लगाते हुए कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए यहां CAA लागू नहीं होगा। इसके साथ ही राहुल गांधी ने कहा किहम दो, हमारे दो, असम के लिये और दो, और सबकुछ लूट लो।

कांग्रेस ने असम के लोगों को एकजुट किया: राहुल गांधी
राहुल गांधी ने शिवसागर जिले के शिवनगर बोर्डिंग फील्ड में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि मैं और कांग्रेस के सभी कार्यकर्ता असम समझौते के सिद्धांतों की रक्षा करेंगे, हम इससे एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने दावा किया कि असम के लोगों को एकजुट किया, इससे पहले हिंसा के चलते इस बात की कोई गारंटी नहीं हुआ करती थी कि कोई व्यक्ति जनसभा से घर वापस लौट पाएगा कि नहीं।

असम का सबसे बड़ा मुद्दा रोजगार: राहुल गांधी
कांग्रेस नेता ने कहा कि असम का सबसे बड़ा मुद्दा रोजगार है। यहां का युवा जानता है कि बीजेपी सरकार में रोजगार नहीं मिलेगा। नरेंद्र मोदी खेती को खत्म करने के लिए तीन कृषि कानून लाए हैं। हम यहां सरकार में आएंगे तो जो नफरत फैलाई जा रही है वो खत्म होगी। उन्होंने आरोप लगाया कि  हिंदुस्तान की सरकार ने तरुण गोगोई जी का और इस प्रदेश का अपमान किया है। असम की जनता में वो क्षमता है कि अवैध प्रवास के  मुद्दे को मिलकर सुलझाया जा सकता है। अगर यह प्रदेश फिर से बंट गया, जो बीजेपी और आरएसएस रोज करते हैं तो असम का नुकसान होगा