Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप ने जगदानंद को अपने घर बुलाकर पिलाया था दूध, अब रिश्‍तों में जहर कहां से आ गया

पटना। Bihar Politics: लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (TeJ Pratap Yadav) अपने पिता की पार्टी राष्‍ट्रीय जनता दल (Rashtriya Janta Dal) यानी राजद (RJD) में अक्‍सर खुद को असहज महसूस करते हैं। ऐसा वे एक नहीं कई मौकों पर जाहिर कर चुके हैं। शनिवार को पार्टी के प्रदेश कार्यालय में अपनी ही पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष जगदानंद सिंह (RJD Bihar State President Jagdanand Singh) के बारे में काफी कुछ बोल जाने का मसला ऐसा ही है। तेज प्रताप ने जगदानंद पर कई आरोप लगाए। यही वहीं जगदानंद हैं, जिन्‍हें प्रदेश अध्‍यक्ष बनाए जाने से ठीक पहले तेज प्रताप ने अपने घर बुलाकर दूध पिलाया था। जगदानंद की ताजपोशी वाले समारोह में लालू के इस लाल ने कहा था कि वे जगदा बाबू की गोद में खेलते हुए बड़े हुए हैं। दूध और गोद के रिश्‍ते में कहां से जहर आया, इसे समझना अधिक मुश्किल नहीं है।

एक वो दिन था और एक ये दिन

एक वह दिन था जब राजद की राज्‍य परिषद की बैठक में जगदानंद सिंह को औपचारिक तौर पर प्रदेश अध्‍यक्ष घोषित किया गया था। इस कार्यक्रम में लालू परिवार से इकलौते सदस्‍य तेज प्रताप यादव ही शामिल हुए थे। लालू की पत्‍नी और पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी, बड़ी बेटी मीसा भारती और छोटे बेटे तेजस्‍वी यादव इस कार्यक्रम में नहीं दिखे थे। कार्यक्रम में थोड़ी ही देर ठहरकर जब तेज प्रताप निकलने लगे तो जगदानंद ने उनका हाथ पकड़कर रोका था और बैठने के लिए कहा था।

घर बुलाकर तेज प्रताप ने पिलाया था देसी गाय का दूध

पार्टी के मंच से तेज प्रताप ने कहा था कि उन्‍होंने जगदानंद को प्रदेश अध्‍यक्ष बनने से पहले अपने घर बुलाकर देसी गाय का दूध पिलाया था। तब तेज प्रताप ने जगदा की खूब तारीफ की थी। उन्‍होंने मंच से ऐसा जताने की कोशिश की कि जगदा उनके भी नजदीकी और उनकी भी पसंद हैं, क्‍योंकि तब यह चर्चा थी कि तेजस्‍वी की चाहत के मुताबिक ही जगदान को यह पद मिल रहा है।

जगदानंद ने बताया था राजद को ही एक परिवार

इस कार्यक्रम में सफाई देते हुए जगदानंद ने कहा था कि पूरा राजद ही एक प‍र‍िवार है। इस परिवार में कहीं कोई मतभेद नहीं है। जगदानंद ने कहा था कि चुनव प्रचार के लिए तेजस्‍वी झारखंड चले गए हैं तो कार्यक्रम में तेज प्रताप मौजूद हैं। उन्‍होंने कहा था कि पार्टी के दोनों नेताओं के बीच कोई विवाद नहीं है।

तेज प्रताप का दर्द छलकने की वजह क्‍या

ज प्रताप भले लालू के बड़े बेटे हैं, लेकिन पार्टी में इस तरह का भाव अब उन्‍हें मिल नहीं रहा। उन्‍होंने शनिवार को कहा कि वे खुद पार्टी का विधायक हैं, लेकिन पार्टी कार्यालय आने पर जगदानंद उनका स्‍वागत करने नहीं आते। तेज प्रताप इतना तो जानते ही होंगे कि किसी भी पार्टी के प्रदेश कार्यालय में प्रदेश अध्‍यक्ष एक-एक विधायक का बाहर निकलकर स्‍वागत नहीं करते। हां, लालू का बड़ा बेटा होने की वजह से तेज प्रताप को अब तक यह सम्‍मान मिलता रहा है। अब इस सम्‍मान में कमी आने से तेज प्रताप नाराज हैं।

छोटे भाई के लिए लगती है इकलौती कुर्सी

तेज प्रताप के छोटे भाई तेजस्‍वी यादव पार्टी की ओर से मुख्‍यमंत्री पद का चेहरा हैं। उनके लिए पार्टी के कार्यक्रमों में अलग से कुर्सी लगती है। ऐसा भी मामला सामने आया जब जगदानंद सहित सभी पार्टी नेताओं को नीचे बैठाकर केवल तेजस्‍वी को बैठने के लिए कुर्सी दी गई। तेज प्रताप को इतना सम्‍मान पार्टी में नहीं मिल पाता है।

आजादी अभ‍ियान में पार्टी की बेरुखी से नाराज

तेज प्रताप यादव ने अपनी पिता लालू यादव की जेल से रिहाई के लिए आजकल राष्‍ट्रपति को पोस्‍टकार्ड भेजने का आजादी अभियान चला रहे हैं। माना जा रहा है कि पार्टी का संगठन इसमें बहुत अधिक रुचि नहीं ले रहा है। खुद तेज प्रताप ने कहा कि जगदानंद ही इस अभियान में शामिल नहीं हो रहे। इसको लेकर भी तेज प्रताप जगदानंद से नाराज हैं।

रामचंद्र पूर्वे को लेकर भी जता चुके हैं नाराजगी

इससे पहले रामचंद्र पूर्वे के प्रदेश अध्‍यक्ष रहने के दौरान उनके खिलाफ भी तेज प्रताप ने नाराजगी जाहिर की थी। इसी वजह से उनकी जगह जगदा को लाए जाने पर तब तेज प्रताप ने खुशी जाह‍िर की थी। हालांकि शनिवार को तेज प्रताप ने पूर्वे को जगदानंद ने बेहतर बताया और पार्टी के प्रदेश नेतृत्‍व में बदलाव की जरूरत भी जताई।