Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

गुलाम नबी आजाद के बाद राज्यसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे होंगे विपक्ष के नेता

नई दिल्ली। कांग्रेस ने राज्यसभा में अपना नया नेता प्रतिपक्ष चुन लिया है। बजट सत्र के आखिरी दिन यानि 15 फरवरी को मौजूदा नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद(Ghulam Nabi Azad) का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। उससे पहले कांग्रेस पार्टी ने अपने नेता प्रतिपक्ष का चुनाव कर लिया है। कांग्रेस ने गुलाम नबी आजाद के बाद राज्यसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे(Mallikarjun  Kharge) को नेता प्रतिपक्ष चुना है। कांग्रेस से राज्यसभा में विपक्ष के नेता चुने जाने के संबंध में संसद के ऊपरी सदन यानि राज्यसभा के अध्यक्ष को पत्र लिखा है।

कांग्रेस ने राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू को खड़गे को आजाद का कार्यकाल समाप्त होने के बाद विपक्ष के नेता के पद पर नियुक्त करने के लिए लिखा है। गुलाम नबी आजाद का 15 फरवरी को कार्यकाल समाप्त होने के बाद यह पद खाली हो जाएगा। गुलाम नबी आजाद, जम्मू-कश्मीर से उच्च सदन के सदस्य हैं। जम्मू कश्मीर वर्तमान में अनुच्छेद-370 हटाए जाने और केंद्र शासित प्रदेश बनाने के बाद वहां कोई विधानसभा सीट नहीं है।

कर्नाटक के एक दलित नेता मल्लिकार्जुन खड़गे 2014 से 2019 तक लोकसभा में कांग्रेस के नेता थे। कांग्रेस पार्टी को पूर्व और वर्तमान लोकसभा में विपक्ष के नेता का पद नहीं मिल सका क्योंकि सदन में उनकी संख्या कम थी। नेता प्रतिपक्ष पद के लिए दावा करने के लिए निचले सदन की कुल सीटों का कम से कम 10 प्रतिशत अनिवार्य है।

पीएम मोदी ने कहा था- कठिन होगा अगले विपक्ष के नेता का काम

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने मंगलवार को राज्यसभा में विपक्ष के नेता को  भावुक विदाई देते हुए कहा था कि जो व्यक्ति गुलाम नबी जी (विपक्ष के नेता के रूप में) का स्थान लेगा उसे अपना काम करने में कठिनाई होगी क्योंकि वह केवल उनकी पार्टी के बारे में ही नहीं लेकिन देश और सदन के बारे में भी चिंतित थे। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने इस भाषण में गुलाम नबी आजाद से जुड़े कई पहलुओं पर अपनी राय प्रकट की थी।