Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

हिरासत में मौत घृणित अपराध, माफ नहीं किया जा सकता : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। हिरासत में मौत का मामला एक घृणित कृत्य है और सभ्य समाज में इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता। सुप्रीम कोर्ट ने यह बात गुरुवार को ओडिशा में हिरासत में हुई मौत के मामले की सुनवाई करते हुए कही। 1988 की इस घटना में दो पुलिसकर्मी दोषी पाए गए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने दोषी पुलिसकर्मियों को किसी तरह की राहत देने से इन्कार कर दिया। शीर्ष न्यायालय ने कहा, यह अपराध केवल मृतक के खिलाफ नहीं है बल्कि समूची मानवता के खिलाफ है। यह संविधान के अनुच्छेद 21 का भी उल्लंघन है जिसमें व्यक्ति को जीने का अधिकार दिया गया है।

पुलिस सुरक्षा देने के लिए है, भय पैदा करने के लिए नहीं

सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस अजय रस्तोगी की पीठ ने मामले को आइपीसी की धारा 324 (हृदय संबंधी बीमारी) में तब्दील किए जाने की मांग को नामंजूर कर दिया। पीठ ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को पुलिस थाने में बर्बरता से पीटा जाना पूरे समाज को भयभीत करता है और पुलिस के प्रति लोगों के विश्वास को कम करता है। लोगों में विश्वास होता है कि पुलिस उनकी जान और संपत्ति की सुरक्षा के लिए है। लेकिन इस तरह की घटनाएं इस भावना को कमजोर करती हैं। इसलिए इस तरह की घटनाओं के दोषियों को निश्चित रूप से दंडित किया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश उन दो अवकाश प्राप्त अधिकारियों की याचिका पर आया है जो हाईकोर्ट से दंडित किए जा चुके हैं।

दोनों अधिकारी ओडिशा के एक थाने में एक व्यक्ति की बर्बर पिटाई के दोषी पाए गए थे जिसकी बाद में मौत हो गई थी। इन पूर्व अधिकारियों ने अपनी याचिका में मौत का कारण मृतक की हृदय संबंधी बीमारी बताया था।