Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

छत्तीसगढ़ में सफल हो रहा है ‘Lon Varratu’ अभियान, दंतेवाड़ा में 2 महिलाओं सहित 13 नक्सलियों ने किया सरेंडर

दंतेवाड़ा। छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार द्वारा चलाए गए लोन वरार्टू (Lon Varratu) यानी की घर वापसी अभियान के तहत लगातार नक्सली सरेंडर कर रहे हैं। नक्सलियों को मुख्य धारा में लाने के मकसद से ही प्रशासन ने वर्ष 2020 में इस अभियान को शुरू किया था। इस अभियान के तहत अब राज्य में 13 नक्सलियों ने सरेंडर किया है। इन 13 लोगों में से 3 पर ईनामी राशि का एलान किया था। दंतेवाड़ा में नक्सलियों द्वारा यह सरेंडर किया गया। पुलिस द्वारा जारी किए बयान के मुताबिक, 13 लोगों में 11 पुरुष और 2 महिलाएं हैं। कल दंतेवाड़ा पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव के सामने सभी ने सरेंडर किया।

पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने बताया कि  जून 2020 में इस अभियान को शुरू किया था। उन्होंने बताया कि पिछले आठ महीनों में310 नक्सलियों ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया है, जिनमें  से 77 नक्सली पर ईनामी राशि का एलान किया गया था। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन अभियान के तहत सरेंडर करने वाले लोगों को पुनर्वास सहायता राशि के रूप में 10,000 रुपये की राशि प्रदान करेगा।

बता दें कि घर वापसी अभियान के तहत नक्सलियों को सरेंडर करने का मौका दिया जा रहा है। नक्सल इन्फ दंतेवाड़ा जिले की पुलिस ने नक्सलियों को हथियार छोड़ने के मुख्य धारा में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए उनके गांवों में डाक और बैनर भी लगाए हैं। पुलिस ने नक्सलियों को कहा हुआ है कि वे हथियार छोड़कर वापस गांव लौट आएंगे।

वहीं इन पोस्टरों में वरिष्ठ अधिकारियों का फोन नंबर भी दिया गया है जिससे माध्यम से नक्सली संपर्क कर सकते हैं। दंतेवाड़ा जिले के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने बताया कि क्षेत्र मेंलोन वरार्टू नाम से एक अभियान चला है। ‘लोन वरार्टू स्थानीय गोंडी बोली का शब्द है और इसका अर्थ होता है अपने गांव लौट आना।