Logo
ब्रेकिंग
रांची रामगढ़ फोरलेन पर चेटर में सड़क दुर्घटना, दो घायल रामगढ़ के दो घरों में डकैती, परिवार को बंधक बनाकर लाखो की लूटपाट, CCTV में अपराधी हुए कैद । रजरप्पा मंदिर के पुजारी रंजीत पंडा का हृदय गति रुकने से नि-धन, शोक की लहर हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण

MSP था, है और रहेगा; पीएम ने किसानों से आंदोलन खत्म करने को कहा, बोले- बात करने को तैयार

नई दिल्ली। राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज राज्यसभा में बोल रहे हैं। सभी की निगाहें इस भाषण के दौरान प्रधान मंत्री पर हैं। पीएम मोदी ने बोलते हुए सबसे पहले सभी सांसदों को धन्यवाद कहा, जिन्होंने राज्यसभा की कार्यवाही को अपना समय दिया। इसके बाद उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति का उद्बोधन आत्मनिर्भर भारत की राह दिखाने वाला रहा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति का अभिभाषण एक नई उमंग, ऊर्जा और आत्मविश्वास पैदा करने वाला था। पीएम मोदी ने राष्ट्रपति का तहेदिल से आभार व्यक्त किया। सूत्रों का कहना है कि प्रधानमंत्री अपने संबोधन में कृषि कानूनों को लेकर विपक्षी नेताओं द्वारा उठाए गए सभी चिंताओं और सवालों का जवाब देंगे। संसद के बजट सत्र की शुरुआत के बाद से, विपक्ष ने लगातार कृषि कानूनों पर केंद्र पर हमला किया है।

हालांकि, सरकार ने विपक्ष पर कृषि कानूनों को लेकर गुमराह करने का आरोप लगाया है और आरोप लगाया है कि किसानों का विरोध केवल एक राज्य पंजाब में है। सरकार ने यहां तक कहा कि वह संशोधन के लिए तैयार है, लेकिन दावा किया कि कृषि कानूनों में कुछ भी गलत नहीं है।

Live Updates:

-पीएम मोदी ने चुटकी लेते हुए कहा, मुझ पर भी कितना हमला हुआ, जो भी कहा जा सकता था कहा गया, पर मुझे बहुत आनंद हुआ, कि मैं कम-से-कम आपके काम तो आ सका।

-पूरे देश में जिस तरह से नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को मंजूरी दी गई है वह अपने आप में सराहनीय है। पूर्वी भारत भारत के उज्ज्वल भविष्य में एक बड़ी भूमिका निभाएगा: पीएम मोदी

-पीएम मोदी बोले- इस देश को हर सिख पर गर्व है। उन्होंने इस देश के लिए क्या कुछ नहीं किया। हम उन्हें जो भी सम्मान देंगे वह हमेशा कम होगा। मैं पंजाब में अपने जीवन के महत्वपूर्ण वर्ष बिताने पर भाग्यशाली महसूस करता हूं। उनके लिए कुछ लोगों द्वारा इस्तेमाल की गई भाषा और उन्हें गुमराह करने का प्रयास राष्ट्र को कभी लाभ नहीं पहुंचाएगा।

-पीएम मोदी बोले-हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि पंजाब के साथ क्या हुआ। इसे विभाजन के दौरान सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा। यह 1984 के दंगों के दौरान सबसे ज्यादा रोया था। वे सबसे दर्दनाक घटनाओं के शिकार हुए। जम्मू-कश्मीर में मासूमों की हत्या कर दी गई। हथियारों का कारोबार उत्तर पूर्व में किया जाता था। इन सबने राष्ट्र को प्रभावित किया।

-भारत में ‘आंदोलनजीवी’ नामक एक नया जमाना सामने आया है, जो हर विरोध में मौजूद है। देश को उनकी पहचान करने की जरूरत है। हमें देश को नई FDI यानी विदेशी विनाशकारी विचारधारा से बचाने की जरूरत है: पीएम मोदी

-पीएम ने किसानों से आंदोलन खत्म करने को कहा है। उन्होंने कहा कि बात करने के लिए तैयार हैं। सभी विकल्प खुले हैं। पीएम ने राज्यसभा में कहा, ‘एमएसपी था, एमएसपी है और एमएसपी रहेगा’

-पीएम बोले- हमारे कृषि मंत्री किसानों से बात कर रहे हैं। पीएम मोदी ने किसानों से कहा कि विरोध करना आपका अधिकार है, लेकिन बुज़ुर्ग लोग को वापस भेजें।

-पीएम मोदी ने कहा कि कृषि में सुधार के लिए सभी को एकजुट होना होगा। रिकॉर्ड उत्पादन के बावजूद कृषि में समस्याएं हैं।

-कृषि कानूनों पर पीएम मोदी ने पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का जिक्र किया। पीएम मोदी ने कांग्रेस को कहा कि मैं जो कर रहा हूं, उसपर आपको गर्व होना चाहिए।

-पीएम मोदी बोले- हर पिछली सरकार ने कृषि सुधारों की बात की है; हर कोई कृषि में सुधार की आवश्यकता पर सहमत था। मैं बहुतों के  हूं। राजनीति इतनी प्रचलित है कि लोग अपने ही विचारों को भूल जाते हैं।

-पीएम मोदी- 2014 के बाद, हमने छोटे किसानों को शामिल करने के लिए फसल बीमा का दायरा बढ़ाया। हमारी सभी नीतियों, योजनाओं में छोटे किसान शामिल।

-मोदी ने कहा, ‘मैं सदन में कृषि से संबंधित चर्चाओं पर देवेगौड़ा के योगदान की सराहना करना चाहता हूं। उनके शब्दों ने बहस के लिए महान परिप्रेक्ष्य जोड़ा है। उनका खुद कृषि क्षेत्र के साथ एक मजबूत संबंध है।’

-पीएम ने किसानों के विरोध की बात करते हुए पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि कृषि ऋण माफी से छोटे किसानों को फायदा नहीं है।

-पीएम मोदी बोले- संसद में सभी ने किसानों के विरोध के बारे में बात की, लेकिन विरोध के कारण पर बात नहीं की।

-पीएम मोदी बोले- भारत केवल दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र नहीं है। भारत लोकतंत्र की जननी है और यह हमारा लोकाचार है। हमारे राष्ट्र का स्वभाव लोकतांत्रिक है।

-पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं डेरेक जी को सुन रहा था, उन्होंने अच्छे शब्दों को चुना था- फ्रीडम ऑफ स्पीच, इन्टिमिडेशन। जब मैं उन्हें सुन रहा था, तो मुझे आश्चर्य हो रहा था कि क्या वह बंगाल के बारे में बात कर रहे हैं या देश के।’

-पीएम मोदी ने कहा, ‘जो लोग भारत के लोकतंत्र पर सवाल उठाते हैं, मैं उन्हें यह समझाना चाहता हूं कि हमारा लोकतंत्र एक पश्चिमी संस्थान नहीं है, बल्कि एक मानव संस्थान है।’ पीएम ने आगे कहा कि भारत का राष्ट्रवाद संकीर्ण, लालची या आक्रामक नहीं है।

-प्रधानमंत्री मोदी बोले- विरोध करने के लिए कितने मुद्दे हैं लेकिन ऐसी बातों में ना उलझें, जो देश के मनोबल को तोड़ते हैं, देश के सामर्थ्य को नीचा दिखाते हैं।

-पीएम मोदी ने कहा, ‘हम आज़ादी के 75वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं, ये एक प्रेरक अवसर है। हम जहां हों, मां भारती की संतान के रूप में आज़ादी के 75वें पर्व को हमें प्रेरणा का पर्व मनाना चाहिए।’

-राज्यसभा में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘अच्छा होता कि राष्ट्रपति जी का भाषण सुनने के लिए सब होते तो लोकतंत्र की गरिमा और बढ़ जाती। लेकिन राष्ट्रपति जी के भाषण की ताकत इतनी थी कि न सुनने के बाद भी बात पहुंच गई।’

-पीएम ने कहा, ‘कोरोना ने दुनिया के साथ भारत के रिश्तों को एक नई ताकत दी है। शुरुआत में जब वैक्सीन और दवाई नहीं थे, तो सारे विश्व का ध्यान भारत की दवाईयों की ओर गया। विश्व में फार्मेसी के हब के रूप में भारत उभर कर आया।’

-पीएम बोले- भारत के लिए दुनिया ने बहुत आशंकाएं जताई थीं। विश्व बहुत चिंतित था कि अगर कोरोना की इस महामारी में भारत अपने आप को संभाल नहीं पाया तो न सिर्फ भारत, पूरी मानव जाति के लिए इतना बड़ा संकट आ जाएगा, ये आशंकाएं सभी ने जताई।

-पीएम मोदी बोले- भारत ने उन दिनों को देखा है जब पोलियो, चेचक का बड़ा खतरा था। किसी को नहीं पता था कि भारत को वैक्सीन मिलेगी या कितने लोगों को मिलेगी। उन दिनों से, अब हम यहां हैं, जब हमारा राष्ट्र दुनिया के लिए टीके बना रहा है। इससे हमारा आत्मविश्वास बढ़ता है।

-TMC सांसदों ने एक वॉकआउट किया।

-पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया की नजर भारत पर है। भारत से उम्मीदें हैं और विश्वास है कि भारत हमारे ग्रह की बेहतरी में योगदान देगा। पीएम मोदी ने बताया, ‘आपने सोशल मीडिया पर देखा होगा-एक बूढ़ी औरत अपने पांव के तले बैठी है, एक प्रज्ज्वलित मिट्टी के दीपक के साथ, भारत के कल्याण के लिए प्रार्थना कर रही है। हम उसका मजाक उड़ा रहे हैं! अगर कोई ऐसा व्यक्ति जो कभी स्कूल नहीं गया, वह सोचता है कि वे दीपक जलाकर भारत की सेवा कर सकते हैं, तो उसका मजाक बनाया जाता है।

-राष्‍ट्रपति के अभिभाषण पर जवाब देते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘भारत सही मायने में अवसरों का देश है। कई अवसर हमारा इंतजार कर रहे हैं, इसलिए एक ऐसा राष्ट्र जो युवा है, जोश से भरा है और एक ऐसा राष्ट्र जो सपनों को साकार करने का प्रयास कर रहा है, एक संकल्प के साथ, इन अवसरों को कभी भी जाने नहीं दिया जा सकता।’

-राष्‍ट्रपति के अभिभाषण पर राज्‍यसभा में आज जवाब दे रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। उन्होंने कहा, ‘राज्यसभा में, 50 से अधिक सांसदों ने 13 घंटे से अधिक समय तक अपने विचार व्यक्त किए, उन्होंने अपने अमूल्य विचार व्यक्त किए। इसलिए, मैं सभी सांसदों का आभार व्यक्त करता हूं।’

-उत्तराखंड में आई आपदा पर चर्चा के लिए कांग्रेस सांसद मणिकम टैगोर ने लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव दिया।

-रक्षा मंत्री ने कहा, ‘हमारी सेना ने अब पाकिस्तान की शरारतों को सीमा तक ही सीमित कर दिया है। जिस प्रकार की कार्रवाई हमारी सेना के द्वारा की जाती है उसकी जितनी सराहना ​की जाए वो कम है।’

– कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने पूछा कि जब से केंद्र में भाजपा की सरकार है, तब से अधिक संघर्ष विराम उल्लंघन क्यों होता है?

-संसद में राफेल के बारे में एक सवाल पर राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत में 11 राफेल मौजूद हैं। उन्होंने कहा, ‘अब तक 11 राफेल विमान आ चुके हैं और मार्च तक 17 राफेल भारत की धरती पर होंगे। अप्रैल 2022 तक हमारे सारे राफेल भारत आ जाएंगे।’

-एक प्रश्न के उत्तर में राज्यसभा में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘हम स्वदेशीकरण पर जोर दे रहे हैं और 101 आइटमों को चुना है जो अन्य देशों से आयात नहीं किए जाएंगे लेकिन भारतीयों द्वारा भारत में निर्मित किए जा रहे हैं।’

-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह 10:30 बजे राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब देंगे: प्रधानमंत्री कार्यालय

-टीआरपी घोटाले की जांच पर चर्चा के लिए शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने राज्यसभा में नियम 267 के तहत स्थगन प्रस्ताव दिया।

-भाजपा सांसद नबाम रेबिया ने राज्यसभा में शून्यकाल नोटिस दिया है और अरुणाचल प्रदेश के लिए एक अलग अखिल भारतीय सेवा कैडर बनाने की मांग की है।

-बीजद के सांसद प्रशांत नंदा ने राज्यसभा में शून्यकाल नोटिस दिया है और ओडिशा में गांवों और वामपंथी उग्रवाद (एलडब्ल्यूई) क्षेत्रों में मोबाइल कनेक्टिविटी प्रदान करने की मांग की है।

-सीपीआई सांसद बिनॉय विश्वम ने राज्य सभा के नियम 267 के तहत चमोली, उत्तराखंड में फ्लैश फ्लड पर स्थगन प्रस्ताव दिया है।