Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

टूलकिट खुलासे पर बोले पीएम मोदी- भारतीय चाय को बदनाम करने के लिए विदेश में रची गई साजिश

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व स्तर पर भारतीय चाय के बारे में दुष्प्रचार करने वालों को चेतावनी देते हुए ऐसे प्रयासों से दूर रहने को कहा है। मोदी ने रविवार को असम के सोनितपुर जिले में एक चाय बागान में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा ‘‘ कुछ लोग देश के खिलाफ षड़यंत्र रच रहे है और ये लोग इस स्तर पर पहुंच चुके है कि वे चाय को भी नहीं छोड़ रहे हैं।”

पीएम ने आरोप लगाया कि भारतीय चाय के बारे में दुष्प्रचार करने की साजिश एक नियोजित तरीके से की जा रही है और विदेशों में लोग इस अभियान की अगुवाई कर रहे हैं। उन्होंने कहा‘‘ क्या आप ऐसे लोगों को स्वीकार करेंगे जो इस तरह के अभियानों को रोकने की दिशा में कुछ नहीं कर रहे हैं और ये सभी लोग जवाबदेह होंगे। देश के चाय बागानों के श्रमिक और आम उपभोक्ता ऐसी राजनीतिक पाटिर्यों से सवाल करेंगे क्योंकि ये पाटिर्यां अब तक चुप रही हैं। देश ऐसे लोगों को कभी नहीं माफ करेगा जिनके ऐसे मंसूबे है और चाय बागानों के श्रमिकों की जीत होगी।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि असम का विकास राज्य के चाय बागानों के विकास से जुड़ा है और राज्य सरकार चाय बागानों के श्रमिकों के कल्याण के लिए काफी बेहतर कार्य रही है। मोदी ने ‘‘असम माला’ योजना की शुरूआत की है जिसमें राज्य में सड़कों की कनेक्टिविटी को बढ़ाया जाएगा। इसके अलावा उन्होंने दो मेडिकल कालेजों और बिश्वनाथ और चाराइदो में अस्पतालों की आधारशिला भी रखी है।