Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

डेमोक्रेसी इंडेक्स: भारत दो पायदान नीचे आया, पड़ोसी देशों के मुकाबले भारत बेहतर स्थिति में

नई दिल्ली। द इकनॉमिस्ट इंटेलीजेंस यूनिट के अनुसार वर्ष 2020 में भारत डेमोक्रेसी इंडेक्स पर दो पायदान नीचे आकर 53वें स्थान पर आ गया है। खास बात यह है कि पड़ोसी लोकतांत्रिक देशों के मुकाबले उसकी रैंकिंग अभी भी बहुत बेहतर है।

167 देशों में लोकतांत्रिक व्यवस्था को परखने के बाद भारत को 6.61 अंक मिले

लंदन स्थित ग्रुप द इकनामिस्ट की सहयोगी संस्था द इकनॉमिस्ट इंटेलीजेंस यूनिट (ईआइयू) के अनुसार 167 देशों में लोकतांत्रिक व्यवस्था की स्थितियों को परखने के बाद भारत को 6.61 अंक मिले हैं। जबकि वर्ष 2019 में उसका स्कोर 6.9 और रैंकिंग 51 रही। भारत का सबसे बेहतर स्कोर 2014 में 7.92 रहा है, तब उसकी रैंकिंग 27 थी।

भारत में लोकतांत्रिक मूल्यों पर लगातार बढ़ते दबाव के कारण रैंकिंग गिरी: ईआइयू

ईआइयू के अनुसार भारत में लोकतांत्रिक मूल्यों पर लगातार बढ़ते दबाव के कारण उसकी रैंकिंग गिरी है। डेमक्रेसी इन सिकनेस एंड इन हेल्थ शीर्षक से जारी ईआइयू की इस रिपोर्ट में नार्वे को पहला स्थान दिया गया है। इसके बाद आइसलैंड, स्वीडन, न्यूजीलैंड और कनाडा को स्थान मिला है। ये सारे देश क्रमश: टाप फाइव समूह में शामिल हैं।

167 देशों में 23 को पूर्ण लोकतंत्र, 52 देशों को त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र के दायरे में रखा गया 

कुल 167 देशों में 23 को पूर्ण लोकतंत्र, 52 देशों को त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र के दायरे में रखा गया है। 35 देशों में मिश्रित राज व्यवस्था और 57 में सत्तावादी शासन बताया गया है। इस रिपोर्ट में आरोप लगाया है कि मौजूदा सरकार ने राजनीति को धार्मिक रंग देकर भारत के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को बदलने की कोशिश की है।

पाकिस्तान 105वें स्थान पर

इस सूची में श्रीलंका को 68वें, बांग्लादेश को 76वें, भूटान को 84वें और पाकिस्तान को 105वें स्थान पर रखा गया है।