Logo
ब्रेकिंग
DISNEY LAND MELA का रामगढ़ फुटबॉल मैदान में हुआ शुभारंभ विस्थापितों की 60% की भागीदारी सुनिश्चित नहीं हुई, तो होगा CCl का चक्का जाम Income tax raid फर्नीचर व गद्दे में थीं नोटों की गड्डियां, यहां IT वालो को मिली अरबों की संपत्ति! बाइक चोरी करने वाले impossible गैंग का भंडाफोड़, पांच अपरा'धी गिरफ्तार।। रामगढ़ की बेटी महिमा को पत्रकारिता में अच्छा प्रदर्शन के लिए किया गया सम्मानित Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा*

सिर्फ नोट बरामदगी भ्रष्टाचार रोधी कानून में पर्याप्त साक्ष्य नहीं : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कहा कि सिर्फ नोटों का पाया जाना या नोटों की बरामदगी भ्रष्टाचार रोधी कानून के प्रविधानों के तहत अपराध साबित करने और आरोपित के खिलाफ मुकदमा चलाने के आरोप साबित करने के लिए पर्याप्त नहीं है। जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस आर. सुभाष रेड्डी और जस्टिस एमआर शाह की तीन सदस्यीय पीठ ने कहा कि आरोपित के खिलाफ आरोप साबित करने के लिए बिना किसी संदेह के यह साबित करना होगा कि आरोपित ने अपनी इच्छा से जानबूझकर रिश्वत की रकम स्वीकार की।

पीठ ने कहा, ‘यह तय व्यवस्था है कि महज बरामदगी से आरोपित के खिलाफ अभियोजन का आरोप साबित नहीं होता। भ्रष्टाचार रोधी कानून, 1988 की धारा सात, 13(एक)(डी)(आइ) और (आइआइ) के तहत कहा गया है कि बिना किसी संदेह के यह साबित होना जरूरी है कि आरोपित को पता था कि जो रकम उसने स्वीकार की, वह रिश्वत है।’ शीर्ष अदालत ने कहा कि रिश्वत मांगे जाने का कोई सुबूत नहीं होने और महज नोटों की बरामदगी से अपराध साबित नहीं हो जाता

शीर्ष अदालत ने मदुरै नगर निगम में सफाई निरीक्षक रहे एन. विजय कुमार की अपील पर यह फैसला सुनाया है। उन्होंने मद्रास हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ याचिका दायर की थी। हाई कोर्ट ने भ्रष्टाचार के एक मामले में उन्हें दोषी ठहराया था जबकि निचली अदालत ने उन्हें बरी कर दिया था। निचली अदालत के फैसले के खिलाफ राज्य सरकार ने हाई कोर्ट का रुख किया था।