Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

गणतंत्र दिवस समारोह में बाधा डाल सकते हैं आंदोलनकारी किसान, खुफिया विभाग से मिला इनपुट

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में सीमा पर डटे किसान गणतंत्र दिवस समारोह में भी बाधा डाल सकते हैं। दिल्ली पुलिस को खुफिया विभाग से इस तरह का इनपुट मिला है। इसके बाद जहां दिल्ली पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है, वहीं पहली बार नई दिल्ली जिले को 25 जनवरी की रात ही सील किए जाने का निर्णय लिया गया है। दिल्ली में चप्पे-चप्पे पर पैरा मिलिट्री की भी तैनाती करने की कवायद शुरू कर दी गई है। गत दिनों दिल्ली पुलिस की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में भी अर्जी दायर की गई है। इसमें अनुरोध किया गया है कि शीर्ष अदालत द्वारा किसानों को समारोह के दौरान किसी तरह की गड़बड़ी पैदा न करने की हिदायत दी जाए। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने किसान नेताओं का पक्ष मांगा है।

दिल्ली की सिंघु, टीकरी व गाजीपुर आदि सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसान धरने पर बैठे हैं। कुछ किसान नेताओं ने गत दिनों गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने की बाद आंदोलन खत्म करने की बातें कही हैं। इसके बाद से पुलिस अलर्ट हो गई है। सूत्रों के मुताबिक इंटेलीजेंस को इस तरह के इनपुट मिल रहे हैं कि कुछ आंदोलनकारी किसान गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर-ट्राली लेकर दिल्ली कूच करने की कोशिश कर सकते हैं। हांलाकि, पुलिस किसी भी सूरत में किसानों को ट्रैक्टर लेकर दिल्ली की सीमा में प्रवेश करने की इजाजत नहीं देगी। यह भी सूचना मिल रही है कि कुछ किसान मोबाइल के जरिये 10-10 या 20-20 की संख्या में आपस में संपर्क में रहेंगे। अलग-अलग होकर वे परेड देखने के बहाने राजपथ पर पहुंचेंगे। इसके बाद अचानक 100-200 किसान राजपथ पर पहुंचकर नारेबाजी कर सकते हैं। इसे देखते हुए तमाम तरह की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं, सभी थानों की पुलिस को हर परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है। साथ ही निर्देश दिया गया है कि कानून हाथ में लेने वालों से सख्ती से निपटा जाए। वाटर कैनन, फायर ब्रिगेड व आंसू गैस के गोले आदि की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। खुफिया विभाग से मिल रही सूचनाओं के मुताबिक किसान होटलों, गेस्ट हाउसों या रिश्तेदारों के यहां पहले से आकर ठहर सकते हैं।

सत्यापन के बाद मिलेगा

नई दिल्ली जिले में प्रवेश किसान संगठनों व उनकी आड़ में उपद्रवी तत्वों के समारोह में प्रवेश की आशंका को देखते हुए सत्यापन के बाद ही नई दिल्ली जिले में लोगों को गणतंत्र दिवस पर प्रवेश करने दिया जाएगा। समारोह संपन्न होने तक राजपथ की ओर जाने वाले रास्तों पर जगह-जगह चेकिंग की जाएगी। उस तरफ वही लोग जा सकेंगे, जिनके पास रक्षा मंत्रालय द्वारा सत्यापित पास होगा।