Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

मृत्यु प्रमाण पत्र पाने को भटक रहे जिदा जले लोगों के स्वजन

छिबरामऊ: असमय बस हादसे में खो चुके स्वजन के मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करवाने को लोग अधिकारियों के चक्कर लगाने हैं। मामला जिला उद्यान अधिकारी व प्रभारी बीडीओ के सामने पहुंचा। उन्होंने गंभीरता दिखाई। सचिव को प्रपत्रों की पुष्टि कर अविलंब प्रमाण पत्र जारी करने के निर्देश दिए।

सोमवार को जिला फर्रुखाबाद पोस्ट कंधरापुर के गांव उगरापुर निवासी रईस अहमद विकास खंड कार्यालय पहुंचे। उन्होंने बताया कि छोटे भाई लईक अहमद, भाई की पत्नी शायदा बेगम, पुत्री सादिया परवीन एवं पुत्र शान अहमद व मुहम्मद सैफ बस से जयपुर जा रहे थे। 10 जनवरी 2020 को गांव घिलोई के सामने बस व ट्रक में टक्कर हो गई थी। बस हादसे में परिवार के लोगों की जलकर मौत हो गई थी। डीएनए से इनकी जांच हुई। नवंबर 2020 में रिपोर्ट प्राप्त हो गई। 30 नवंबर 2020 को पुलिस ने स्वजनों के अवशेष भी दे दिए। इनका विधि अनुसार अंतिम संस्कार कर दिया गया। इसके बाद से वह भाई सहित परिवार के सदस्यों के मृत्यु प्रमाण पत्र पाने के लिए भटक रहे हैं। इसी प्रकार जिला कासगंज थाना गंजडुंडवारा के पूररब थोक निवासी नाजिम ने बताया कि उनकी पत्नी नूरी व पुत्री सामिया की घिलोई में बस हादसे में जलकर मृत्यु हो गई थी। मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए सभी प्रपत्र ग्राम पंचायत अधिकारी घिलोई के पास जमा कर दिए। अब तक प्रमाण-पत्र जारी नहीं किया गया है। पीड़ित इस मामले को लेकर एसडीएम छिबरामऊ के पास पहुंचे। उन्होंने बीडीओ छिबरामऊ को प्रमाण पत्र जारी कराने के लिए निर्देशित किया। मामला जिला उद्यान अधिकारी व प्रभारी बीडीओ मनोज कुमार चतुर्वेदी के सामने पहुंचा। उन्होंने डीएनए रिपोर्ट होने के बाद भी प्रमाण पत्र जारी होने में देरी पर आश्चर्य जताया। सचिव को प्रमाण पत्र जारी करने के लिए निर्देशित किया। प्रभारी बीडीओ मनोज कुमार चतुर्वेदी ने बताया कि सचिव को प्रपत्रों का मिलान कर प्रमाण पत्र जारी करने के निर्देश दिए गए हैं। पीड़ित परिवारों को अब प्रमाण पत्र के लिए भटकना नहीं पड़ेगा।