Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

अमित शाह का ‘मिशन’ असम, प्रसिद्ध कामाख्या मंदिर में की पूजा-अर्चना

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह पूर्वोत्तर के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। यहा अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए शाह ने चुनाव प्रचार अभियान को औपचारिक रूप से शुरू कर दिया है। आज उन्होंने कामाख्या मंदिर में पूजा अर्चना की।इस दौरान उनके साथ असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी मौजूद रहे।  इससे पहले गृह मंत्री ने बंगाल में चुनावी तैयारियों का आगाज भी काली मंदिर से किया था।

कामाख्या मंदिर में करेंगे पूजा-अर्चना
जानकारी के अनुसार शाह रविवार सुबह कामाख्या मंदिर में पूजा-अर्चना करेंगे और मणिपुर के लिए रवाना होंगे जहां उन्हें विभिन्न योजनाओं की शुरूआत करनी है। आज शाम को  ही वह  दिल्ली लौटेंगे। गृह मंत्री ने शनिवार को अपनी यात्रा के दौरान 15वीं शताब्दी के वैष्णव सुधारक-संत श्रीमंत शंकरदेवा के जन्मस्थल के सौंदर्यीकरण के लिए एक परियोजना की शुरूआत की थी। उन्होंने इसके अलावा आठ हजार ‘‘नामघरों”(पारंपरिक वैष्णवी मठों) को वित्तीय सहायता देने संबंधी एक और कार्यक्रम शुरू किया।

असम में सुरक्षा स्थिति की ली थी जानकारी 
इसके अलावा गृह मंत्री ने असम में सुरक्षा स्थिति और असम पुलिस द्वारा सुधारों को लेकर की गई विभिन्न पहलों के बारे में जानकारी ली। असम पुलिस के महानिदेशक भास्कर ज्योति महंत ने गृह मंत्री को कानून व्यवस्था कायम रखने के लिए उठाए गए कदमों और कोविड-19 महामारी के दौरान पुलिस द्वारा निभाई गई सराहनीय भूमिका के बारे में भी बताया। बैठक में मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल, वित्त मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा, मुख्य सचिव जिश्नु बरूआ और अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए थे।

अब युवा हथियार नहीं उठायेंगे: शाह 
अमित शाह ने शनिवार को भक्ति आंदोलन को पुनर्जीवित करने का आह्वान करते हुए कहा कि इससे अति आवश्यक सामाजिक परिवर्तन होगा जिससे युवा हथियार नहीं उठायेंगे। उन्होंने कहा कि एक समय हुआ करता था जब अलगाववादी शासन किया करते थे। युवाओं को हथियार दिए गए थे। अब सभी समूह मुख्यधारा में शामिल हो गए हैं और असम विकास इंजन का हिस्सा बन गया है।