लालू प्रसाद यादव पर JDU का बड़ा हमला, कहा- तेजस्‍वी-तेज प्रताप के अलावा उन्‍हें एक और बेटा

yamaha

पटना। बिहार सरकार में मंत्री (Bihar Minister) व जनता दल यूनाइटेड (JDU) नेता नीरज कुमार (Niraj Kumar) ने राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के जन्‍मदिन (Lalu Prasad Yadav Birthday) पर उनपर बड़ा हमला बोला है। उन्‍होंने लालू की तुलना ठग (Cheater) से करते हुए नेता प्रतिपक्ष (Leader of Opposition) तेजस्वी यादव (Tejashwi yadav) को भी नटवर लाल (Natwar Lal) करार दिया। उन्‍होंने एक और खुलासा करते हुए कहा कि लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad yadav) ने तरूण यादव (Tarun Kumar) नाम के एक व्‍यक्ति के नाम पर भी जमीन खरीदी है। जमीन के दस्‍तावेज के अनुसार वह लालू का तीसरा बेटा है।

लालू बताएं, क्‍या तीसरा बेटा है तरुण यादव?

नीरज कुमार ने कहा कि लालू प्रसाद यादव का एक और बेटा तरुण यादव है। लालू ने तेजस्‍वी (Tejashwi Yadav) व तेज प्रताप (Tej Pratap Yadav) के अलावा तरुण यादव के नाम से भी जमीन खरीदी है। जमीन के दस्‍तावेज बताते हैं कि वह लालू यादव का बेटा है। तेजस्‍वी और तेज प्रताप की तरह उसका नाम भी हिन्‍दी अक्षर ‘त’ से शुरू होता है। आखिर कौन है तरुण यादव? कहा है वह? क्‍या वह लालू प्रसाद यादव का दत्तक पुत्र है? लालू को इस बाबत स्थिति स्‍पष्‍ट करनी चाहिए।

नौकरी का प्रलेाभन दे लिखवा ली जमीन

मंत्री नीरज कुमार ने कहा कि ऐसे कोई सगा व्यक्ति नहीं है, जिसे लालू प्रसाद यादव ने ठगा नहीं है। लालू ने परिवार तक के लोगों से अपने नाम पर जमीन लिखवा ली है। इसके बदले उन्‍हें रेलवे या अन्य विभागों में नौकरी के प्रलोभन दिए गए। नीरज कुमार ने लालू द्वारा अपने नाम की गई जमीनों के दस्‍तावेज भी दिखाए।

पहले जारी हुआ पोस्‍टर, फिर आया बयान

विदित हो कि लालू प्रसाद यादव के 73वें जन्‍मदिन के अवसर पर विरोधियों ने उन्‍हें पोस्‍टर के माध्‍यम से घेरते हुए उनकी 73 संपत्तियों का विवरण दिया। पटना में कई जगह ये पोस्‍टर लगाए गए हैं। पोस्‍टर के ऊपर लिखा ‘लालू परिवार का संपत्तिनामा’ लिखते हुए बताया गया है ये संपत्तियां राजनीतिक धौंस से बटोरी गईं हैं। पोस्‍टर किसने जारी किया है, इसकी जानकारी नहीं दी गई है, लेकिन इसके बाद नीरज कुमार ने इसे जारी करने वाले को धन्‍यवाद दिया तथा मीडिया से बातचीत में लालू प्रसाद यादव व परिवार की संपत्तियों के बारे में कई खुलासे किए।

raja moter

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.