पूरा देश संकल्‍प से भरा हुआ है कि इस आपदा को अवसर में बदलना है, इसे एक बड़ा टर्निंग प्‍वाइंट भी बनाना है

yamaha

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (ICC) के 95 वें सालाना कार्यक्रम को संबोधित कर रहे हैं। मौजूदा कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री का यह भाषण काफी महत्वपूर्ण है। इससे पहले प्रधानमंत्री ने 2 जून को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) की एजीएम में भाग लिया था।

Narendra Modi Speech LIVE Updates

  • पीपुल, प्लेनेट and प्रोफि एक दूसरे से Interlinked हैं। ये तीनों एक साथ Flourish कर सकते हैं, Co-exist कर सकते हैं। मैं आपको कुछ उदाहरण देकर समझाता हूं। जैसे LED बल्ब। 5-6 वर्ष पहले एक LED बल्ब साढ़े तीन सौ रुपए से भी ज्यादा में मिलता था: PM
  • मैन्यूफैक्चरिंग में बंगाल की ऐतिहासिक श्रेष्ठता को हमें पुनर्जीवित करना होगा। हम हमेशा से सुनते आए हैं “बंगाल जो आज सोचता है, भारत वह कल सोचता है”। इससे प्रेरणा लेते हुए हमें आगे बढ़ना होगा: PM
  • आप सभी नॉर्थ ईस्ट, पूर्वी भारत में इतने दशकों से काम कर रहे हैं। सरकार ने जो तमाम कदम उठाए हैं, इनका बहुत बड़ा लाभ पूर्वी और नॉर्थ ईस्ट के लोगों को होगा। मैं समझता हूं कि कोलकाता भी खुद फिर से एक बहुत बड़ा लीडर बन सकता है: PM
  • इसके साथ ही बांस और जैविक उत्पाद के लिए भी क्लस्टर्स बनेंगे। सिक्किम की तरह पूरा नॉर्थ ईस्ट, ऑर्गैनिक खेती के लिए बहुत बड़ा HUB बन सकता है। ऑर्गैनिक कैपिटल बन सकता है: PM
  • लोकल उत्पाद के लिए जिस क्लस्टर बेस्ड अप्रोच को अब भारत में बढ़ावा दिया जा रहा है, उसमें भी सभी के लिए अवसर ही अवसर हैं।
  • जिन जिलों, जिन ब्लॉक्स में जो पैदा होता है, वहीं आसपास इनसे जुड़े क्लस्टर विकसित किए जाएंगे: PM
  • किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए जो निर्णय हाल में हुए हैं, उन्होंने एग्रीकल्चर इकोनॉमी को बरसों की गुलामी से मुक्त कर दिया है।
  • अब भारत के किसानों को अपने उत्पाद, अपनी उपज देश में कहीं पर भी बेचने की आज़ादी मिल गई है: PM
  • हम इन छोटे-छोटे व्यापार करने वाले लोगों से केवल चीज ही नहीं खरीदते, पैसे ही नहीं देते, उनके परिश्रम को पुरुस्कृत करते हैं, मान-सम्मान बढ़ाते हैं। हमें इस बात का अंदाजा भी नहीं होता कि इससे उनके दिल पर कितना प्रभाव पड़ता है, वो कितना गर्व महसूस करते हैं: PM
  • आत्मनिर्भरता का, Self-Reliance का ये भाव बरसों से हर भारतीय ने एक Aspiration की तरह जिया है लेकिन फिर भी एक बड़ा काश, एक बड़ा काश, हर भारतीय के मन में रहा है, मस्तिष्क में रहा है: PM
  • हर वो चीज, जिसे Import करने के लिए देश मजबूर हैं, वो भारत में ही कैसे बने, भविष्य में उन्हीं Products का भारत Exporter कैसे बने, इस दिशा में हमें और तेजी से काम करना है: PM
  • पीएम मोदी ने कहा, ‘एक राष्ट्र के रूप में इच्छाशक्ति हमारी बहुत बड़ी ताकत है। मुसीबत की एक ही दवाई है, वह है मजबूती।
  • इस समय आईसीसी के सद्स्यों के चेहरे पर और करोड़ों देशवासियों के चेहरे पर मैं एक नया विश्वास और आशा देख सकता हूं। पूरा देश इस संकल्प से भरा हुआ है कि इस आपदा को अवसर में बदलना है और इसे हमें एक बहुत बड़ा टर्निंग प्वाइंट भी बनाना है। यह टर्निंग प्वाइंट है, आत्मनिर्भर बनना।’
  • पीएम मोदी ने कहा, ‘तमाम संकट हम सभी एक साथ मिलकर लड़ रहे हैं। कभी-कभी समय भी हमें परखता है। हमने यह भी अनुभव किया है कि ऐसी कसौटी में भी हमारा संकल्प उज्जवल भविष्य की गारंटी लेकर आता है।
  • हम मुश्किलों से कितनी मजबूती से लड़ रहे हैं, यह आने वाले अवसरों को तय करता है। मन के हारे हार, मन के जीते जीत यानी हमारी इच्छाशक्ति ही हमारा आगे का मार्ग तय करती है।
  • जो पहले ही हार मान लेता है, उसके सामने नए एवसर दूर-दूर तक नजर नहीं आते हैं। वहीं, जो एक-दूसरे का सहयोग करते हुए आगे बढ़ता है, उसके लिए नए अवसर बहुत ज्यादा आते हैं।’
  • इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (ICC) के 95 वें सालाना कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 95 वर्षों से निरंतर देश की सेवा करना किसी भी संगठन के लिए बहुत बड़ी बात है।
  • आईसीसी ने पूर्वी भारत के लिए जो काम किया है, वह महत्वपूर्ण हैं। आईसीसी ने आजादी की लड़ाई को देखा है। आईसीसी ने विभाजन, भीषण अकाल और अन्य संकटो को देखा है। इस बार की एजीएम ऐसे समय में हो रही है, जब देश कई सारी चुनौतियों से लड़ रहा है।

ICC@indianchamber15

ICC is one of the oldest Chambers in the country. We are hosting our 95th Annual Plenary Session where Shri Narendra Modi,@PMOIndia , will be the Chief Guest.
Register for the webinar which is on 11th, June 2020 from 11 am onwards, here https://bit.ly/3cOT2HB 

Twitter पर छबि देखें
ICC के अन्य ट्वीट देखें

प्रधानमंत्री ने सीआईआई की बैठक में कहा था कि विश्व में भारत के प्रति एक विश्वास पैदा हुआ है। भारत को एक विश्वसनीय पार्टनर के रूप में देखा जाता है। इसका फायदा भारतीय उद्योगों को उठाना चाहिए। सीआईआई के 125 वें सालाना सत्र को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा था, ‘दुनिया एक विश्वसनीय पार्टनर के लिए देख रही है। भारत में क्षमता है, ताकत है और योग्यता है। इस समय भारतीय उद्योगों को विश्वभर में भारत के प्रति पैदा हुए विश्वास का फायदा उठाना चाहिए।’

पीएम ने कहा था, ‘ग्रोथ को वापस लाना इतना कठिन नहीं है। सबसे बड़ी बात यह है कि भारतीय उद्योगों के पास आत्मनिर्भरता का एक स्पष्ट लक्ष्य है।’ प्रधानमंत्री ने कहा था कि देश को अब ‘Made in India’ उत्पाद बनाने की जरूरत है, जो ‘Made for the World’हों।

देश में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए 25 मार्च से लॉकडाउन लागू किया गया था, जिसमें अब अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो गई है। लॉकडाउन के शुरुआती चरणों में औद्योगिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई थीं। लॉकडाउन में ढील दिये जाने के बाद औद्योगिक गतिविधियां धीरे-धीरे सामान्य हो रही हैं। केंद्र सरकार द्वारा इस विकट समय में 20 लाख करोड़ रुपये का आत्मनिर्भर भारत पैकेज भी लाया गया। पीएम मोदी आईसीसी के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए आज फिर भारतीय उद्योगों को बड़ा संदेश दे सकते हैं।

raja moter

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.