वेद प्रकाश मारवाह के निधन से कोल्‍हान में भी शोक की लहर, झारखंड के राज्‍यपाल रहे थे वेद

yamaha

जमशेदपुर। झारखंड के पूर्व राज्यपाल वेदप्रकाश मारवाह का गोवा में निधन हो गया। इनके निधन की खबर से झारखंड के कोल्‍हान में भी शोक की लहर दौड़ पड़ी। मारवाह ने 12 जून 2003 से 9 दिसंबर 2004 तक झारखंड के राज्यपाल की जिम्‍मेदारी संभाली थी।

पूर्वी सिंहभूम के घाटशिला अनुमंडल इलाके के  मुसाबनी के व्यवसायी चंद्र प्रकाश शर्मा ने कहा कि वेद प्रकाश मारवाह के निधन की खबर मर्माहत करने वाली है। दिल्ली के पुलिस कमिश्नर रहे वेद प्रकाश मारवाह ने राज्‍यपाल के पद पर रहते हुए झारखंड को अलग दिशा देने का काम किया था। झारखंड का राज्यपाल बनने से पूर्व वे देश में कई महत्वपूर्ण पदों पर भी सेवा दे चुके थे। झारखंड के राज्यपाल के रूप में नक्सलवाद को खत्म करने के लिए उनकी भूमिका सराहनीय मानी जाती है।

पूर्व राज्यपाल का निधन दुःखद : कन्हाई 

घाटशिला मुखिया समन्वय समिति के अध्यक्ष कन्हाई मुर्मू ने झारखंड के पूर्व राज्यपाल वेद प्रकाश मारवाह  के निधन पर शोक व्यक्त किया। कहा कि उनका निधन अपूर्णीय क्षति है। झारखंड में राज्यपाल के रूप में उनके कार्यकाल को हमेशा याद रखा जाएगा।

वेद प्रकाश मारवाह का निधन अपूर्णीय क्षति : सांसद प्रतिनिधि 

राज्यसभा सांसद प्रतिनिधि कालटु चक्रवर्ती ने झारखंड के पूर्व राज्यपाल वेद प्रकाश मारवाह के निधन को दुःखद बताया है। उन्होंने कहा कि झारखंड के विकास में पूर्व राज्यपाल का सराहनीय योगदान रहा था। उनके कार्यकाल को झारखंड की जनता हमेशा याद रखेगी।

वेद ने छोड़ी थी अमिट छाप: मित्रेश्‍वर

घाटशिला महाविद्यालय के सेवानिवृत प्रो. मित्रेश्वर ने कहा कि वेद प्रकाश मारवाह का निधन झारखंड के लिए बड़ी क्षति है। झारखंड राज्य के राज्‍यपाल के रूप में उन्होंने अपनी अमिट छाप छोड़ी है। राज्यपाल की गरिमा नि:देदेह स्थापित की। उनके प्रशासनिक अनुभवन का लाभ राज्य को मिला।

मारवाह का निधन दुखद: गोस्‍वामी

भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्‍यक्ष डॉ दिनेशा नंद गोस्‍वामी ने कहा कि पूर्व राज्यपाल वेद प्रकाश मारवाह का निधन दुखद है। उनका देश व राज्य से काफी लगाव रहा। उन्‍हें देश के विकास की चिंता हमेशा लगी रहती थी। एक कुशल प्रशासक के रूप में उनकी पहचान थी।

 निधन की खबर मर्माहत करने वाली: शर्मा

मुसाबनी के व्यवसायी चंद्र प्रकाश शर्मा ने कहा कि वेद प्रकाश मारवाह के  निधन की खबर मर्माहत करने वाली है। राज्‍यपाल के रूप में निभाए गए दायित्‍व को झारखंड हमेशा याद रखेगा।

सरायकेला में किसने, क्‍या कहा

सरायकेला नगर पंचायत की अध्यक्षा मिनाक्षी पट्टनायक ने कहा कि वेद प्रकाश मारवाह का  निधन झारखंड के लिए बड़ी क्षति है। झारखंड राज्‍यापाल के रूप में उन्होंने अपनी एक अमिट छाप छोड़ी।  भाजपा के जिला अध्यक्ष उदय सिंहदेव ने कहा कि पूर्व राज्यपाल वेद प्रकाश मारवाह का निधन दुखद है। उनका देश व राज्य से काफी लगाव रहा। उन्हें देश के विकास की चिंता रहती थी।  सरायकेला चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष प्रदीप कुमार चौधरी ने कहा कि मारवाह  के निधन की खबर मर्माहत करने वाली है। वेद प्रकाश मारवाह 2003 में झारखंड के राज्यपाल बने थे। 2004 तक उन्‍होंने  इस पद पर  रहकर झारखंड को अलग दिशा देने का काम किया।  सरायकेला कालूराम सेवा ट्रस्ट के अध्यक्ष मनोज चौधरी ने  पूर्व राज्यपाल वेद प्रकाश मारवाह के निधन पर शोक व्यक्त किया। कहा कि उनका निधन देश के लिए नहीं पूरी होनेवाली क्षति है। झारखंड के राज्यपाल के रूप में उनके कार्यकाल को हमेशा याद रखा जाएगा। जिला परिषद की अध्यक्ष शकुंतला महाली ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि मारवाह के  निधन की खबर मर्माहत करने वाली है। राज्य में नक्सलवाद को खत्म करने के लिए जो भी कदम उठाए काफी प्रशांसनीय थे।

raja moter

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.